इंडियन ऑयल और NTCA ने ‘प्रोजेक्ट चीता’ (Project Cheetah) के लिए समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए

हाल ही में, राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण (National Tiger Conservation Authority – NTCA) ने ‘प्रोजेक्ट चीता’ के तहत चीतों को अफ्रीका से भारत में स्थानांतरित करने के लिए इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन के साथ एक समझौता ज्ञापन (MoU) पर हस्ताक्षर किए। इस MoU के एक हिस्से के रूप में, IOC इस परियोजना के लिए चार साल की अवधि में 50.22 करोड़ रुपये का अनुदान देगा। वर्तमान में, पुनर्वास परियोजना की कुल लागत 75 करोड़ रुपये है।

मुख्य बिंदु

  • इंडियन ऑयल अपने कॉरपोरेट सोशल रिस्पॉन्सिबिलिटी (CSR) के तहत फंड मुहैया कराएगा। इसका उपयोग चीता को फिर से लाने के साथ-साथ पारिस्थितिकी विकास, आवास प्रबंधन और संरक्षण, पशु चिकित्सा स्वास्थ्य देखभाल और कर्मचारियों के प्रशिक्षण के लिए किया जाएगा।
  • इंडियन ऑयल CSR के तहत ‘प्रोजेक्ट चीता’ का समर्थन करने के लिए आगे आने वाला पहला कॉर्पोरेट बन गया है।
  • ‘प्रोजेक्ट चीता’ राष्ट्रीय स्तर पर महत्वपूर्ण है और पारिस्थितिकी तंत्र को संतुलित करने के लिए भी आवश्यक है।

चीता का स्थानांतरण

भारत में, शिकार गतिविधियों के कारण 1952 में चीता विलुप्त हो गए थे। नतीजतन, केंद्र सरकार ने ‘चीता पुनर्वास’ परियोजना शुरू की।जनवरी 2020 में केंद्र सरकार द्वारा ऐसा करने की अनुमति देने के बाद सुप्रीम कोर्ट द्वारा इस परियोजना को धीरे-धीरे लागू किया जा रहा है। इससे पहले, भारत ने ईरान से एशियाई चीता को भारत में स्थानांतरित करने की योजना बनाई थी। लेकिन भारत-ईरान संबंधों में हालिया विकास के कारण अफ्रीकी चीता को पेश करने की योजना बदल गई। NTCA की 19वीं बैठक के दौरान पर्यावरण मंत्रालय ने ‘भारत में चीता के परिचय के लिए कार्य योजना’ (Action plan for Introduction of Cheetah in India) जारी की। इस कार्य योजना के तहत, नामीबिया से 50 अफ्रीकी चीता अगले 5 वर्षों में भारत में स्थानांतरित किए जायेंगे। 10-12 चीतों को प्रथम वर्ष के दौरान मध्य प्रदेश के कुनो पालपुर राष्ट्रीय उद्यान में स्थानांतरित किया जाएगा।

Categories:

Tags: , , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments