इसरो ने सफलतापूर्वक लांच किया PSLV-C52 मिशन

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने 2022 के अपने पहले मिशन को 14 फरवरी, 2022 को लॉन्च किया। गौरतलब है कि यह मिशन 14 फरवरी को सुबह 5:59 पर लांच किया गया।

मुख्य बिंदु 

  • ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान (PSLV-C52) 14 फरवरी को सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र, श्रीहरिकोटा के पहले लॉन्च पैड से लॉन्च किया गया।
  • इसमें एक पृथ्वी अवलोकन उपग्रह (EOS-04) को ले जाया गया।

PSLV-C52

PSLV-C52 का वजन 1710 किलोग्राम है। यह EOS-04 के चारों ओर 529 किमी की सूर्य तुल्यकालिक ध्रुवीय कक्षा में परिक्रमा करेगा। यह मिशन दो छोटे उपग्रहों को सह-यात्रियों के रूप में ले जाएगा, अर्थात्,

  1. छात्र उपग्रह (INSPIREsat-1) – यह उपग्रह भारतीय अंतरिक्ष विज्ञान और प्रौद्योगिकी संस्थान (IIST) द्वारा कोलोराडो विश्वविद्यालय, बोल्डर में वायुमंडलीय और अंतरिक्ष भौतिकी की प्रयोगशाला के सहयोग से विकसित किया गया है।
  2. प्रौद्योगिकी प्रदर्शक उपग्रह (INS-2TD) – इस उपग्रह को इसरो द्वारा विकसित किया गया है। यह भारत-भूटान संयुक्त उपग्रह (INS-2B) का अग्रदूत है।

संचालन समय

यह सैटेलाइट सिर्फ छह महीने तक ऑपरेशन में रहेगा।

सैटेलाइट कैसे करेगा आकलन?

इस उपग्रह में थर्मल इमेजिंग कैमरा शामिल है। यह कैमरा पानी की सतह के तापमान, भूमि, तापीय जड़ता और वनस्पति के परिसीमन के आकलन में मदद करेगा।

मिशन का उद्देश्य

इस उपग्रह का उद्देश्य आयनोस्फीयर गतिकी के साथ-साथ सूर्य की कोरोनल हीटिंग प्रक्रिया की समझ में सुधार करना है। इसका परिचालन जीवनकाल एक वर्ष के लिए निर्धारित किया गया है।

EOS-04 क्या है?

EOS-04 एक रडार इमेजिंग सैटेलाइट (RISAT) है, जिसे सभी मौसमों में उच्च गुणवत्ता वाले चित्र प्रदान करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। यह वानिकी और वृक्षारोपण, कृषि, बाढ़ मानचित्रण और मिट्टी की नमी और जल विज्ञान जैसे अनुप्रयोगों के लिए चित्र प्रदान करेगा। यह कार्टोसैट, रिसोर्ससैट और रिसैट-2B श्रृंखला द्वारा किए गए अवलोकनों को पूरा करते हुए सी-बैंड में अवलोकन डेटा एकत्र करेगा।

Categories:

Tags: , , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments