ईरान ने खैबर-बस्टर मिसाइल (Khaibar Buster Missile) का अनावरण किया

9 फरवरी, 2022 को, ईरान ने “खैबर बस्टर मिसाइल” नामक एक नई मिसाइल का अनावरण किया, जो आस-पास के अमेरिकी और इज़रायल ठिकानों को निशाना बनाने में सक्षम है।

खैबर-बस्टर (Khaibar Buster)

  • इसकी मारक क्षमता 900 मील है।
  • यह मिसाइल ठोस ईंधन पर चलती है।
  • इसकी उच्च सटीकता है और इसे पूरी तरह से घरेलू स्तर पर निर्मित किया गया है।
  • यह मिसाइल शील्ड सिस्टम को हरा सकती है।

मिसाइल का महत्व

इजराइल का ईरान से निकटतम बिंदु 620 मील दूर है। ईरान के पास मिसाइलें हैं, जो 1250 मील तक की दूरी तय कर सकती हैं। मध्य पूर्व में ईरान के पास मिसाइलों का सबसे बड़ा शस्त्रागार भी है।

ईरान की बैलिस्टिक मिसाइलें

इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट फॉर स्ट्रैटेजिक स्टडीज (IISS) के मुताबिक, ईरान के पास करीब 20 तरह की बैलिस्टिक, क्रूज मिसाइलें और ड्रोन हैं। क़ियाम-1 की रेंज 500 मील और गदर-1 की रेंज 1,100 मील है। ईरान की मौजूदा प्राथमिकता अपनी मिसाइलों की सटीकता को बढ़ाना है।

ईरान 

1935 से पहले ईरान को फारस (Persia) के नाम से जाना जाता था। यह प्राचीन दुनिया के सबसे महान साम्राज्यों में से एक था। इसकी सीमा पश्चिम में इराक और तुर्की, उत्तर-पश्चिम में अजरबैजान और आर्मेनिया, उत्तर में कैस्पियन सागर और तुर्कमेनिस्तान, पूर्व में अफगानिस्तान और पाकिस्तान और दक्षिण में ओमान की खाड़ी और फारस की खाड़ी से लगती है। तेहरान इसकी राजधानी है। ईरान संयुक्त राष्ट्र, OIC, ECO और OPEC का संस्थापक सदस्य है।

Categories:

Tags: , , , , ,

« »

Advertisement

Comments