ईरान : परमाणु गतिविधि को बढ़ावा देने के लिए बिल पारित किया गया

29 नवंबर, 2020 को ईरान की संसद ने एक नया बिल पारित किया है। इस बिल का नाम “The strategic measure for the removal of sanctions bill” है।

मुख्य बिंदु

ईरान ने अपनी परमाणु गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए इस बिल को पारित किया है। इससे पहले, हाल ही में  ईरान के परमाणु वैज्ञानिक मोहसिन फाखरीज़ादे की हत्या हुई थी, इस घटना के बाद यह बिल पारित किया गया है।

मोहसेन फखरीजादेह

मोहसेन फखरीजादेह एक भौतिक विज्ञानी और ईरान के परमाणु वैज्ञानिक थे। वह परमाणु अनुसंधान और रक्षा गतिविधियों के क्षेत्र में काम कर रहे थे।  27 नवंबर, 2020 को तेहरान के बाहर बमबारी और गोलीबारी में वह मारे गये।

बिल के मुख्य बिंदु

  1. इस बिल का उद्देश्य ईरान की परमाणु गतिविधियों को बढ़ावा देना है।
  2. यह ईरान में यूरेनियम संवर्धन स्तर को 20% या उससे अधिक बढ़ाएगा।यूरेनियम की इस मात्रा को वेपन-ग्रेड माना जाता है।
  3. यह बिल अराक परमाणु रिएक्टर को फिर से बहाल करेगा जिसे रेडियो-आईसोटोप के उत्पादन के लिए री-डिज़ाइन किया जाना था।यह Joint Comprehensive Plan of Action  (JCPOA) के तहत हथियार-ग्रेड प्लूटोनियम का उत्पादन करने से रोकने के लिए किया गया था।
  4. यह बिल ईरान को अतिरिक्त प्रोटोकॉल के साथ स्वैच्छिक अनुपालन को छोड़ने के लिए भी बाध्य करता है।यह अंतर्राष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी (IAEA) के साथ समझौते की सुरक्षा करेगा।

Joint Comprehensive Plan of Action (JCPOA)

JCPOA को ईरान परमाणु समझौते या ईरान सौदे के रूप में भी जाना जाता है। यह ईरानी परमाणु कार्यक्रम पर एक समझौता है। यह समझौता 14 जुलाई, 2015 को वियना में ईरान और P5 + 1 सदस्य देशों के बीच हुआ था।

पी 5+1

इस समूह में संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के पांच स्थायी सदस्य अर्थात् चीन, रूस, फ्रांस, यूनाइटेड किंगडम और संयुक्त राज्य अमेरिका के साथ जर्मनी और यूरोपीय संघ शामिल हैं।

Categories:

Tags: , , , , ,

« »

Advertisement

Comments