ई-श्रम पोर्टल पर 4 करोड़ से अधिक असंगठित श्रमिकों को पंजीकृत किया गया

केन्द्रीय श्रम व रोज़गार मंत्री श्री भूपेंद्र सिंह के मुताबिक अब तक ई-श्रम पोर्टल पर 4 करोड़ से अधिक असंगठित श्रमिकों को पंजीकृत किया गया है।

श्रम मंत्रालय द्वारा 26 अगस्त, 2021 को असंगठित श्रमिकों के लिए एक राष्ट्रीय डेटाबेस (NDUW) या ई-श्रम पोर्टल लॉन्च किया गया था।

मुख्य बिंदु 

  • यह पोर्टल भारत में लाखों असंगठित श्रमिकों को एक साझा मंच पर लाने में मदद करेगा।
  • एक अनुमान के अनुसार, भारत के 500 मिलियन कार्यबल का 92% असंगठित है। वे अक्सर न्यूनतम मजदूरी और सामाजिक सुरक्षा के अन्य रूपों से वंचित रहते हैं।

ई-श्रम पोर्टल (e-Shram Portal)

  • ई-श्रम पोर्टल एक एकल-बिंदु संदर्भ (single-point reference) होगा जो अधिकारियों को अनौपचारिक क्षेत्र में श्रमिकों तक पहुंचने और उन्हें ट्रैक करने में मदद करेगा।
  • NDUM में प्रवासी श्रमिक, निर्माण श्रमिक, गिग और प्लेटफॉर्म श्रमिक, घरेलू कामगार, रेहड़ी-पटरी वाले, कृषि श्रमिक, प्रवासी श्रमिक और असंगठित कामगारों के ऐसे अन्य उप-समूह शामिल होंगे।

श्रमिक इस पोर्टल पर कैसे नामांकन कर सकते हैं?

यह पोर्टल ओपन एक्सेस के लिए सार्वजनिक रूप से उपलब्ध होगा। इस प्लेटफॉर्म का उपयोग करके, कार्यकर्ता अपने आधार और मोबाइल नंबर का उपयोग करके स्व-नामांकन कर सकते हैं। इसके अलावा, सामान्य सेवा केंद्र और चयनित डाकघर भी पंजीकरण प्रक्रिया में मदद करेंगे, जहां श्रमिक बिना किसी शुल्क के अपना पंजीकरण करा सकते हैं।

पृष्ठभूमि

अप्रैल-मई 2020 में कोविड-19 के कारण देशव्यापी लॉकडाउन के बीच लाखों श्रमिक अपने गृहनगर लौट आए थे, उसके बाद असंगठित श्रमिकों के लिए पोर्टल पर काम तेजी से हुआ था। इससे लाखों लोगों की नौकरी और आजीविका का नुकसान हुआ था।

भारत में अनौपचारिक क्षेत्र

आवधिक श्रम बल सर्वेक्षण (Periodic Labour Force Survey – PLFS) के अनुसार, भारत में 90% श्रमिक अनौपचारिक क्षेत्र में हैं। यह 465 मिलियन श्रमिकों में से 419 मिलियन है।

Categories:

Tags: , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments

  • Manoj
    Reply

    Modi ji great man