उइगर लोगों को पहचानने करने के लिए अलीबाबा ने लांच किया सॉफ्टवेयर

हाल ही में चीन की अलीबाबा कंपनी ने एक फेशियल रिकॉग्निशन सॉफ्टवेयर लॉन्च किया है, यह सॉफ्टवेयर किसी उइगर व्यक्ति के चेहरे को पहचान सकता है।

मुख्य बिंदु

गौरतलब है कि अमेरिका स्थित सर्विलांस इंडस्ट्री रिसर्च फर्म IPVM ने अलीबाबा की क्लाउड शील्ड सर्विसेज में इस डिटेक्शन तकनीक का पता लगाया है। यह तकनीक उइगर व्यक्ति द्वारा फिल्माए और अपलोड किए गए वीडियो की पहचान करने में सक्षम है। इस तकनीक के मदद से अधिकारी इस प्रकार की सामग्री को हटा सकते हैं या इस पर कारवाई कर सकते है। इस शोध फर्म ने पाया कि, अलीबाबा की चीनी वेबसाइट ने ग्राहकों को यह ही दिखाया है कि वे जातीय अल्पसंख्यकों की पहचान करने के लिए इस तकनीकी का उपयोग किस प्रकार कर सकते हैं। इसके लिए गाइड ही बनाई गयी है। इसे विशेष रूप से उइगरों की खोज करने के लिए बनाया गया है।

चीन में उइगरों की स्थिति

चीन ने शिनजियांग प्रांत में उइगर और अन्य तुर्क मुसलमानों को नियंत्रित करने के लिए अपने प्रयासों को तेज कर दिया है। इसके लिए चीन ने कई प्रकार के कार्यक्रम शुरू किये हैं, इसमें महिलाओं की नसबंदी, शिविरों में बड़े पैमाने पर इंटर्नशिप, ज़बरन श्रम कार्यक्रम, व्यापक तकनीकी और मानव निगरानी इत्यादि शामिल हैं। हालांकि, चीन इन सभी आरोपों को खारिज करता है। चीन का तर्क है कि ये शिविर व्यावसायिक प्रशिक्षण केंद्र हैं जो धार्मिक अतिवाद का मुकाबला करने के लिए आवश्यक हैं।

Categories:

Tags: , , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments