उर्वरक और शोधन में ग्रीन हाइड्रोजन का उपयोग अनिवार्य करने के लिए भारत का प्रस्ताव : मुख्य बिंदु

‘ग्रे हाइड्रोजन’ को ‘ग्रीन हाइड्रोजन’ से बदलने (replace) की सरकार की प्रतिबद्धता के अनुरूप, भारत उर्वरक और शोधन में हरे हाइड्रोजन के उपयोग को अनिवार्य करने का प्रस्ताव कर रहा है।

मुख्य बिंदु 

  • यह प्रस्ताव ऊर्जा मंत्री आर.के. सिंह ने जलवायु के लिए अमेरिका के विशेष राष्ट्रपति दूत जॉन केरी के साथ बातचीत के दौरान रखा था।
  • उन्होंने कहा, भारत और अमेरिका बिजली और प्रौद्योगिकी के लिए नवाचारों के क्षेत्र में एक साथ काम कर सकते हैं।
  • मंत्री के अनुसार, भारत ने स्थापित सौर और पवन क्षमता में 100 GW को पार करने का एक मील का पत्थर हासिल किया है। हाइड्रो क्षमता को जोड़कर कुल स्थापित अक्षय क्षमता 147 मेगावाट है।

राष्ट्रीय हाइड्रोजन ऊर्जा मिशन (National Hydrogen Energy Mission)

लागत प्रतिस्पर्धी ग्रीन हाइड्रोजन उत्पादन को सक्षम करने के लिए राष्ट्रीय हाइड्रोजन ऊर्जा मिशन (National Hydrogen Energy Mission) लांच किया गया था। ईंधन के रूप में हाइड्रोजन के व्यवहार्य उपयोग के लिए सड़क बनाने के लिए भारत तीन से चार महीनों में ग्रीन हाइड्रोजन के लिए प्रतिस्पर्धी बोलियां भी आयोजित करेगा। भारत 4000 मेगावाट इलेक्ट्रोलाइजर क्षमता के लिए भी बोली लगाने पर विचार कर रहा है।

हाइड्रोजन

हाइड्रोजन पृथ्वी पर प्रचुर मात्रा में पाए जाने वाले तत्वों में से एक है जिसका उपयोग स्वच्छ वैकल्पिक ईंधन विकल्प के रूप में किया जा सकता है। हाइड्रोजन निम्न प्रकार का होता है:

  1. ग्रीन हाइड्रोजन: यह सौर, पवन जैसी अक्षय ऊर्जा का उपयोग करके पानी के इलेक्ट्रोलिसिस द्वारा निर्मित होता है। इसमें कार्बन फुटप्रिंट को कम करने की क्षमता है।
  2. ब्राउन हाइड्रोजन : यह कोयले का उपयोग करके उत्पादित किया जाता है जहां हवा में उत्सर्जन जारी किया जाता है।
  3. ग्रे हाइड्रोजन : यह प्राकृतिक गैस से उत्पन्न होता है जहां हवा में संबंधित उत्सर्जन जारी किया जाता है।
  4. ब्लू हाइड्रोजन : यह प्राकृतिक गैस से उत्पन्न होता है और कार्बन कैप्चर और स्टोरेज का उपयोग करके उत्सर्जन को कैप्चर कर लिया जाता है।

Categories:

Tags: , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments