एबेल 370 क्या है?

नासा ने हाल ही में एबेल 370 की तस्वीर साझा की है, जो आकाशगंगाओं का एक समूह है। इस तस्वीर को नासा हबल टेलीस्कोप के इंस्टाग्राम अकाउंट पर साझा किया गया था।

मुख्य बिंदु

एबेल 370 की तस्वीर को #HubbleClassic कैप्शन के साथ साझा किया गया था। एबेल 370 एक क्लस्टर है जो पृथ्वी से लगभग 4.9 बिलियन प्रकाश वर्ष दूर है। एबेल 370 के विशाल गुरुत्वाकर्षण के कारण प्रकाश भी गुजरते हुए मुड़ता है, जिसके परिणामस्वरूप एबेल 370 के पीछे आकाशगंगाओं के बारे में दृष्टिकोण थोडा अस्पष्ट हो जाता है। इसके कारण एक विकृत आकृति बनती है।

नासा के अनुसार, जब एबेल 370 के पीछे आकाशगंगाओं से प्रकाश गुजरता है, तो क्लस्टर का गुरुत्वाकर्षण लेंस की तरह प्रकाश को बढ़ाता है। इस प्रभाव को गुरुत्वाकर्षण लेंसिंग कहा जाता है।

हबल टेलिस्कोप की तस्वीर एबेल 370 का अध्ययन डरहम विश्वविद्यालय के खगोलविद जोहान रिचर्ड द्वारा किया गया था। रिचर्ड और उनकी टीम को 10 आकाशगंगाएँ मिलीं जो एबेल 370 क्लस्टर द्वारा लेंस की गई थीं। इन 10 में से 6 आकाशगंगाएँ पहले नहीं देखी गई थीं।

इन आकाशगंगाओं की आकृति और क्लस्टर में द्रव्यमान विविध है। रिचर्ड और उनकी टीम ने अबेल 370 के कुल द्रव्यमान के बारे में अधिक जानने के लिए लेंसयुक्त आकाशगंगाओं का अध्ययन किया और यह पाया गया कि क्लस्टर में डार्क मैटर के दो बड़े, अलग-अलग गुच्छे हैं। इससे पता चलता है कि एबेल 370 दो छोटी आकाशगंगाओं के विलय का परिणाम है।

Categories:

Tags: , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments