ऑस्ट्रेलिया ने ‘ला नीना’ (La Nina) मौसम शुरू होने की घोषणा की

ऑस्ट्रेलिया के मौसम ब्यूरो ने 23 नवंबर, 2021 को घोषित किया कि एक ‘ला नीना’ मौसम की घटना (weather phenomenon) लगातार दूसरे वर्ष प्रशांत महासागर में विकसित हुई थी।

मुख्य बिंदु 

  • इस घटना के विकास से मध्य, उत्तर और पूर्वी ऑस्ट्रेलिया में औसत से अधिक वर्षा होगी।
  • इस घटना से ऑस्ट्रेलिया में गेहूं की पैदावार को बढ़ावा मिल सकता है।
  • सितंबर 2021 में, भारत ने अनुकूल मौसम के कारण इस मौसम के लिए अपने गेहूं के पूर्वानुमान को 17% बढ़ाकर रिकॉर्ड स्तर के करीब पहुंचा दिया था।
  • इस साल, जलवायु मॉडल का सुझाव है, ला नीना पैटर्न अल्पकालिक होगा, और देर से दक्षिणी गोलार्ध की गर्मियों या शुरुआती शरद ऋतु 2022 तक प्रभावी रहेगा।

ला नीना क्या है? (What is La Nina?)

ला नीना एक समुद्री और वायुमंडलीय घटना है, जो अल नीनो (El Nino) का एक ठंडा समकक्ष है। यह व्यापक अल नीनो-दक्षिणी दोलन (El Nino–Southern Oscillation – ENSO) जलवायु पैटर्न का एक हिस्सा है। ला नीना की घटना आमतौर पर भूमध्यरेखीय प्रशांत महासागर में अधिक उष्णकटिबंधीय चक्रवातों, अधिक वर्षा और अपेक्षाकृत ठंडे औसत तापमान से जुड़ी होती है। यह घटनाएं आमतौर पर लगभग एक वर्ष तक चलती हैं।

ला नीना के दौरान क्या होता है?

ला नीना अवधि के दौरान, मध्य प्रशांत महासागर के पूर्वी भूमध्यरेखीय भाग में समुद्र की सतह का तापमान सामान्य से 3-5 डिग्री सेल्सियस कम हो जाता है।

ला नीना का प्रभाव

ला नीना का दुनिया भर में मौसम पर व्यापक प्रभाव पड़ता है, खासकर उत्तरी अमेरिका में। यह अटलांटिक और प्रशांत तूफान के मौसमों को भी प्रभावित करता है। यह प्रशांत महासागर में उष्णकटिबंधीय साइक्लोजेनेसिस को भी कम करता है।

Categories:

Tags: , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments