केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय (CSO) ने भारत का Q4 जीडीपी डेटा जारी किया

केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय (Central Statistics Office – CSO) ने वित्त वर्ष 2020-21 की जनवरी-मार्च तिमाही के लिए भारत के सकल घरेलू उत्पाद (GDP) के आंकड़े जारी किए। इसके अनुसार, दिसंबर तिमाही से भारतीय अर्थव्यवस्था के सकारात्मक क्षेत्र में विस्तार होने की संभावना है।

मुख्य बिंदु

  • कोविड -19 की दूसरी लहर से पहले, भारत की जीडीपी 2020-21 की चौथी तिमाही (जनवरी-मार्च) में 6 प्रतिशत बढ़ी।
  • हालांकि, सभी तिमाहियों के लिए, सकल घरेलू उत्पाद संकुचित होकर 3 प्रतिशत हो गया।सरकारी खर्च में तेज वृद्धि के कारण फरवरी के दूसरे अग्रिम अनुमानों में 8 प्रतिशत संकुचन के पहले के अनुमान से इसमें सुधार हुआ।
  • चौथी तिमाही में सुधार विनिर्माण क्षेत्र के द्वारा किया गया था, तब भी जब सेवाएं तुलनात्मक रूप से सुस्त थीं।
  • अक्टूबर-दिसंबर में 5 प्रतिशत की वृद्धि से जनवरी-मार्च में कृषि विकास धीमा होकर 3.1 प्रतिशत हो गया।
  • खनन और व्यापार, परिवहन क्षेत्र, होटल नकारात्मक क्षेत्र में रहे और इसमें 7 प्रतिशत और 2.3 प्रतिशत का संकुचन हुआ।
  • सकल स्थायी पूंजी निर्माण में जनवरी-मार्च में 9 प्रतिशत की वृद्धि हुई।

विकास का पूर्वानुमान

दूसरी लहर की गंभीरता के कारण 2021-22 की पहली तिमाही में विकास दर कम रहेगी। 2020-21 के सकल घरेलू उत्पाद के अनंतिम अनुमान थोड़े बेहतर हैं।

केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय (Central Statistics Office – CSO)

यह सांख्यिकी और कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय के अधीन कार्यरत एक सरकारी एजेंसी है। यह भारत में सांख्यिकीय गतिविधियों के समन्वय के लिए जिम्मेदार है। यह सांख्यिकीय मानकों को बनाए र है और इसमें एक अच्छी तरह से सुसज्जित ग्राफिकल यूनिट है। इसका मुख्यालय दिल्ली में है।

Categories:

Tags: , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments