केंद्र सरकार ने 11 राज्यों को बाजार से 15,721 करोड़ रुपये उधार लेने की अनुमति दी

केंद्र सरकार ने 11 राज्यों को बाजार से 15,721 करोड़ रुपये का अतिरिक्त फंड उधार लेने की अनुमति दी है, क्योंकि उन्होंने वित्त मंत्रालय द्वारा वित्त वर्ष 2021-22 की जून तिमाही के लिए निर्धारित पूंजीगत व्यय लक्ष्य (capital expenditure target) हासिल कर लिया है।

मुख्य बिंदु 

  • जिन राज्यों को उधार लेने की अनुमति दी गई है उनमें आंध्र प्रदेश, बिहार, छत्तीसगढ़, हरियाणा, केरल, मध्य प्रदेश, मणिपुर, मेघालय, नागालैंड, राजस्थान और उत्तराखंड शामिल हैं।
  • उनके सकल राज्य घरेलू उत्पाद (GSDP) के 0.25% के बराबर अतिरिक्त खुले बाजार उधार लेने की अनुमति दी गई थी।
  • अतिरिक्त वित्तीय संसाधन इन राज्यों को अपने पूंजीगत व्यय को और आगे बढ़ाने में मदद करेंगे।

शुद्ध उधार सीमा

GSDP के 4% की कुल शुद्ध उधार सीमा में से, GSDP का लगभग 0.50% वित्त वर्ष 22 के दौरान राज्यों द्वारा किए जाने वाले वृद्धिशील पूंजीगत व्यय के लिए रखा गया है।

लक्ष्य कौन तय करता है?

अतिरिक्त उधारी के लिए योग्यता प्राप्त करने के लिए प्रत्येक राज्य के लिए वृद्धिशील पूंजीगत व्यय का लक्ष्य व्यय विभाग (Department of Expenditure) द्वारा निर्धारित किया जाता है।

लक्ष्य

अतिरिक्त उधारी के लिए पात्र होने के लिए, राज्यों को जून तिमाही तक लक्ष्य का लगभग 15%, सितंबर तिमाही तक 45%, दिसंबर तिमाही तक 70% और वित्त वर्ष 22 की मार्च तिमाही तक 100% प्राप्त करना आवश्यक था।

राज्यों को उधार लेते समय केंद्र की अनुमति की आवश्यकता क्यों पड़ती है?

संविधान का अनुच्छेद 293(3) राज्यों को अतिरिक्त धन उधार लेने के लिए केंद्र की अनुमति की आवश्यकता का प्रावधान करता है। यह अनुमति अनुच्छेद 293(4) द्वारा प्रदान की गई कुछ शर्तों को पूरा करने के बाद दी जाती है। केंद्र वित्त आयोग की सिफारिशों के अनुसार इस शक्ति का प्रयोग कर रहा है ।

Categories:

Tags: , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments