कैबिनेट ने राष्ट्रीय आयुष मिशन को जारी रखने के लिए मंजूरी दी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने राष्ट्रीय आयुष मिशन (National AYUSH Mission – NAM) को जारी रखने की मंजूरी दे दी है।

मुख्य बिंदु

  • NAM एक केंद्र प्रायोजित योजना है जिसे 01-04-2021 से 31-03-2026 तक बढ़ा दिया गया है।
  • कुल वित्तीय निहितार्थ (financial implication) 4607.30 करोड़ रुपये का होगा। 3,000 करोड़ रुपये केंद्र का हिस्सा और 1607.30 करोड़ रुपये राज्य का हिस्सा होगा।
  • यह योजना 15 सितंबर, 2014 को लांच की गई थी।

राष्ट्रीय आयुष मिशन (National AYUSH Mission)

राष्ट्रीय आयुष मिशन एक केंद्र प्रायोजित योजना है। इसे आयुष मंत्रालय द्वारा क्रियान्वित किया जा रहा है। इसे निम्नलिखित उद्देश्यों के साथ लॉन्च किया गया था:

  1. लागत प्रभावी आयुष सेवाएं प्रदान करने के लिए
  2. आयुष अस्पतालों और औषधालयों को अपग्रेड करके एक सार्वभौमिक पहुंच प्रदान करने के लिए
  3. प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों (PHC), सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों (CHC) और जिला अस्पतालों (DH) में आयुष सुविधाओं को पहुँचाना
  4. आयुष शिक्षण संस्थानों का  अपग्रेडेशन करके राज्य स्तर पर संस्थागत क्षमता को मजबूत करना
  5. 50 बिस्तरों वाले एकीकृत आयुष अस्पताल की स्थापना करना
  6. आयुष सार्वजनिक स्वास्थ्य कार्यक्रमों को लागू करना
  7. समग्र स्वास्थ्य मॉडल की सेवाएं प्रदान करने के लिए 12,500 आयुष स्वास्थ्य और कल्याण केंद्रों का संचालन करना।

मिशन का महत्व

यह योजना पूरे भारत में आयुष स्वास्थ्य सेवाएं या शिक्षा प्रदान करने के लिए राज्य या केंद्र शासित प्रदेश सरकारों के प्रयासों का समर्थन करके स्वास्थ्य सेवाओं में अंतराल को संबोधित कर रही है। इस योजना के तहत दूर-दराज के क्षेत्रों की विशिष्ट जरूरतों पर विशेष ध्यान दिया जाता है ताकि उनकी वार्षिक योजनाओं में उच्च संसाधन आवंटित किए जा सकें।

आयुष मिशन के लाभ

  • यह मिशन स्वास्थ्य सुविधाओं को बढ़ाकर आयुष स्वास्थ्य सेवाओं तक बेहतर पहुंच प्रदान करता है। इस योजना के साथ दवाओं और प्रशिक्षित जनशक्ति की बेहतर उपलब्धता सुनिश्चित होती है।
  • यह मिशन सुसज्जित आयुष शिक्षण संस्थानों की संख्या को बढ़ाकर आयुष शिक्षा में भी सुधार कर रहा है।
  • यह लक्षित सार्वजनिक स्वास्थ्य कार्यक्रमों द्वारा संचारी और गैर-संचारी रोगों को कम करने पर केंद्रित है।

Categories:

Tags: , , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments