कोयले की कमी से निपटने में भारत की मदद करेगा रूस

भारत और रूस ने खनन और इस्पात क्षेत्र में सहयोग करने के लिए एक समझौता ज्ञापन (MoU) पर हस्ताक्षर किए हैं।

मुख्य बिंदु 

  • केंद्रीय इस्पात मंत्री राम चंद्र प्रसाद और रूस के ऊर्जा मंत्री निकोले शुलगिनोव के बीच समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए।
  • यह समझौता ज्ञापन विशेष रूप से कोकिंग पर केंद्रित है
  • इस सौदे पर हस्ताक्षर करना भारत की राष्ट्रीय इस्पात नीति 2017 का हिस्सा है।
  • राष्ट्रीय इस्पात नीति 2017 के तहत, भारत का लक्ष्य 2030 तक 30 करोड़ टन इस्पात उत्पादन तक पहुंचना है।

समझौते के बारे में

दोनों देशों के बीच MoU को मास्को में हस्ताक्षरित किये गया। इसमें कोकिंग कोल में वाणिज्यिक गतिविधियों और संयुक्त परियोजनाओं के कार्यान्वयन की परिकल्पना की गई है। वाणिज्यिक गतिविधियों में शामिल हैं:

  1. भारत को उच्च गुणवत्ता वाले कोकिंग कोल की दीर्घकालिक आपूर्ति
  2. कोकिंग कोल जमा के साथ-साथ लॉजिस्टिक्स का विकास
  3. खनन और कोकिंग कोयला उत्पादन प्रबंधन, प्रसंस्करण और प्रशिक्षण की प्रौद्योगिकियों में अनुभव साझा करना

रूस के साथ OVL की चर्चा

ओएनजीसी विदेश लिमिटेड (OVL) रूस की योजनाबद्ध तरलीकृत गैस परियोजना आर्कटिक LNG-2 और वोस्तोक तेल परियोजना में हिस्सेदारी खरीदने के लिए भी चर्चा कर रही है। 

MoU का महत्व

यह समझौता ज्ञापन महत्वपूर्ण है क्योंकि यह ऐसे समय में हस्ताक्षरित किया गया था जब भारत के गैर-विद्युत उद्योग जैसे सीमेंट, एल्यूमीनियम और स्टील के द्वितीयक उत्पादक गंभीर थर्मल कोयले की कमी का सामना कर रहे हैं।

भारत का कोयला आयात

वर्तमान में, भारत ऑस्ट्रेलिया से अपने कोकिंग कोयले का आयात करता है। भारत में इस्पात के लगभग सभी प्राथमिक उत्पादक अपनी आपूर्ति को पूरा करने के लिए आयातित कोकिंग कोल पर निर्भर हैं।

भारत में कोयला भंडार

झारखंड के झरिया जिले में भारत के पास कोकिंग कोल का बड़ा भंडार है। लेकिन यह क्षेत्र लगातार आग की चपेट में है। झरिया क्षेत्र में लगभग 19.4 बिलियन टन कोकिंग कोल का भंडार होने का अनुमान है।

Categories:

Tags: , , , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments