कोलकाता में किया जायेगा डूरंड कप के130वें संस्करण का आयोजन

दुनिया का तीसरा सबसे पुराना और एशिया का सबसे पुराना फुटबॉल टूर्नामेंट जिसे डूरंड कप कहा जाता है, 5 सितंबर से 21 अक्टूबर, 2021 तक कोलकाता में आयोजित किया जायेगा।

मुख्य बिंदु 

  • कोविड-19 महामारी के कारण एक साल बाद डूरंड कप का आयोजन किया जाएगा।
  • इस टूर्नामेंट का आयोजन अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ (AIFF), आईएफए (पश्चिम बंगाल) और पश्चिम बंगाल सरकार के सहयोग से किया जाएगा।
  • इस वर्ष डूरंड कप का 130वां संस्करण आयोजित किया जायेगा।

डूरंड कप (Durand Cup)

डूरंड कप एक प्रतिष्ठित फुटबॉल टूर्नामेंट है। यह पहली बार 1888 में हिमाचल प्रदेश के डगशाई (Dagshai) में आयोजित किया गया था। इस टूर्नामेंट का नाम मोर्टिमर डूरंड (Mortimer Durand) के नाम पर रखा गया है। वह भारत के प्रभारी तत्कालीन विदेश सचिव थे।

टूर्नामेंट की पृष्ठभूमि

यह टूर्नामेंट ब्रिटिश सैनिकों के बीच स्वास्थ्य और फिटनेस बनाए रखने का एक तरीका था। हालांकि बाद में इसे आम नागरिकों के लिए खोल दिया गया। वर्तमान में, यह विश्व स्तर पर अग्रणी खेल आयोजनों में से एक है।

सफल टीमें

डूरंड कप की सबसे सफल टीमें मोहन बागान और ईस्ट बंगाल हैं। दोनों टीमों ने सोलह-सोलह बार जीत हासिल की है।

ट्रॉफी

विजेता टीम को तीन ट्राफियां प्रदान की जाती हैं : 

  1. प्रेसिडेंट्स कप जो पहली बार डॉ. राजेंद्र प्रसाद द्वारा प्रस्तुत किया गया था।
  2. डूरंड कप – यह वास्तविक पुरस्कार और एक रोलिंग ट्रॉफी है।
  3. शिमला ट्रॉफी जो पहली बार 1903 में शिमला के नागरिकों द्वारा प्रस्तुत की गई थी। 1965 से, यह एक रोलिंग ट्रॉफी बन गई है।

Categories:

Tags: , , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments