क्यूएस वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग में भारत का प्रदर्शन : मुख्य बिंदु

क्यूएस वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग का 11वां संस्करण 4 मार्च, 2021 को जारी किया गया। इस रिपोर्ट को Quacquarelli Symonds (QS) द्वारा संकलित किया गया था। सीमे 14,435 व्यक्तिगत विश्वविद्यालय कार्यक्रम के प्रदर्शन के बारे में स्वतंत्र तुलनात्मक विश्लेषण प्रदान किया है। इस रिपोर्ट के अनुसार, भारत के निजी संस्थानों ने नवीनतम रिपोर्ट में अपने प्रदर्शन में सुधार किया है।

रिपोर्ट के मुख्य बिंदु

  • QS वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग ने इस बात पर प्रकाश डाला कि, निजी संस्थानों की तुलना में सार्वजनिक ‘इंस्टीट्यूशन ऑफ एमिनेंस’ को रैंकिंग में बेहतर प्रतिनिधित्व दिया गया।
  • दस निजी विश्वविद्यालयों में से जिन्हें ‘इंस्टीट्यूशन ऑफ एमिनेंस’ के रूप में चुना जाता है, छह विश्वविद्यालयों को विषय रैंकिंग में स्थान मिला।
  • ओपी जिंदल ग्लोबल यूनिवर्सिटी एकमात्र निजी ‘इंस्टीट्यूशन ऑफ एमिनेंस’ है जो शीर्ष 100 में शामिल है।
  • इस रिपोर्ट में कहा गया है कि, भारत के निजी तौर पर चलने वाले संस्थानों में कई कार्यक्रमों ने प्रगति की है।
  • शीर्ष प्रदर्शन करने वाले भारतीय संस्थानों में भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (IIT) मद्रास शामिल हैं।अपने पेट्रोलियम इंजीनियरिंग कार्यक्रम के लिए विश्वविद्यालय को 30वें स्थान पर रखा गया है।
  • आईआईटी बॉम्बे को 41वां स्थान दिया गया, जबकि आईआईटी खड़गपुर खनन इंजीनियरिंग के लिए 44वें स्थान पर स्थान पर था।
  • दिल्ली विश्वविद्यालय को विकास अध्ययन के लिए 50वां स्थान दिया गया।

भारत के सामने चुनौतियां

इस रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत के सामने सबसे बड़ी चुनौती बढ़ती मांग के संबंध में शैक्षिक-उच्च गुणवत्ता वाली तृतीयक शिक्षा प्रदान करना है। इस चुनौती को राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 द्वारा चिन्हित किया गया था।

Categories:

Tags: , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments