‘गगन उपग्रह प्रौद्योगिकी’ (GAGAN Satellite Technology) क्या है?

भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण (Airports Authority of India – AAI) द्वारा गगन (GAGAN – GPS Aided GEO Augmented Navigation) नामक नवीनतम स्वदेशी उपग्रह-आधारित वृद्धि प्रणाली (SBAS) तकनीक को लागू करके सफलतापूर्वक परीक्षण करने के बाद भारत ने एक प्रमुख मील का पत्थर हासिल किया है।

मुख्य बिंदु 

  • इंडिगो एशिया की पहली एयरलाइन बन गई जिसने राजस्थान के किशनगढ़ हवाई अड्डे पर उतरते समय स्वदेशी रूप से विकसित इस उपग्रह आधारित नेविगेशन प्रणाली का इस्तेमाल किया।
  • एशिया प्रशांत क्षेत्र में भारत पहला देश है जिसने यह उपलब्धि हासिल की है।

गगन का विकास

गगन को भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) और भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण (AAI) द्वारा संयुक्त रूप से विकसित किया गया है। अपलिंक और संदर्भ स्टेशनों का उपयोग करके, यह प्रणाली ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम (GPS) सिग्नल में सुधार प्रदान करती है ताकि हवाई यातायात के प्रबंधन में सुधार हो सके।

गगन (GAGAN)

यह एक सैटेलाइट-आधारित ऑग्मेंटेशन सिस्टम है जो नागरिक उड्डयन अनुप्रयोगों (civil aviation applications) के लिए आवश्यक अखंडता और सटीकता के साथ सैटेलाइट-आधारित नेविगेशन सेवाएं प्रदान करता है। इस प्रणाली के उपयोग के माध्यम से भारतीय हवाई क्षेत्र में बेहतर वायु यातायात प्रबंधन प्रदान किया जा सकता है। यह प्रणाली अन्य अंतर्राष्ट्रीय SBAS प्रणालियों के साथ अंतःक्रियाशील है जो दुनिया भर में उपयोग की जा रही हैं और क्षेत्रीय सीमाओं में निर्बाध नेविगेशन प्रदान करने में सक्षम होंगी। गगन सिग्नल-इन-स्पेस (SIS) GSAT-10 और GSAT-8 के माध्यम से उपलब्ध है। सटीक लैंडिंग के उद्देश्य से विमान को रेडियो नेविगेशन सहायता पर निर्भर रहना पड़ता है। हालांकि, छोटे हवाई अड्डों में आधुनिक नेविगेशन सहायता की कमी है। इसलिए, ऐसे हवाई अड्डों में दृश्यता की आवश्यकताएं बहुत अधिक हैं। जैसे कि किशनगढ़ हवाई अड्डे पर सभी नियमित यात्री उड़ानों के लिए दृश्यता की आवश्यकता 5,000 मीटर है, लेकिन गगन तकनीक का उपयोग करके, एक विमान लगभग 800 मीटर की दृश्यता के साथ काम कर सकता है। गगन द्वारा विमान के स्थान के बारे में अत्यंत सटीक जानकारी प्रदान की जाती है, जिसमें देशांतर, अक्षांश और ऊंचाई जैसे विभिन्न मापदंडों को शामिल किया जाता है।

Categories:

Tags: , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments