गर्भवती महिलाएं भी अब कोविड का टीका लगा सकती हैं : NTAGI

स्वास्थ्य मंत्रालय ने गर्भवती महिलाओं को कोविड-19 का टीका लगवाने के लिए टीकाकरण पर राष्ट्रीय तकनीकी सलाहकार समूह (National Technical Advisory Group on Immunization – NTAGI) की सिफारिश को मंजूरी दे दी है।

मुख्य बिंदु

  • यह निर्णय गर्भवती महिलाओं को कोविड टीकाकरण लेने के बारे में सूचित विकल्प चुनने का अधिकार देता है।
  • गर्भवती महिलाएं अब CoWIN पर पंजीकरण करा सकती हैं या टीकाकरण के लिए निकटतम कोविड टीकाकरण केंद्र में जा सकती हैं।

पृष्ठभूमि

भारत के कोविड टीकाकरण कार्यक्रम में सार्वजनिक स्वास्थ्य, टीकाकरण, रोग नियंत्रण और सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में विशेषज्ञों की सिफारिशें शामिल हैं। यह कार्यक्रम वैज्ञानिक और महामारी विज्ञान के साक्ष्य के आधार पर भारत की स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली को मजबूत करने पर प्राथमिकता प्रदान करता है। इससे पहले, गर्भवती महिलाओं को छोड़कर सभी समूह कोविड टीकाकरण के लिए पात्र थे। अब, टीकाकरण कार्यक्रम का विस्तार गर्भवती महिलाओं तक भी कर दिया गया है।

गर्भावस्था के दौरान कोविड

रिपोर्ट्स के मुताबिक, गर्भावस्था के दौरान कोविड के संक्रमण से गर्भवती महिलाओं के स्वास्थ्य में तेजी से गिरावट आती है। उन्हें गंभीर बीमारियों का खतरा अधिक होता है। संक्रमण भ्रूण को भी प्रभावित कर सकता है। COVID-19 संक्रमण वाली गर्भवती महिलाओं को भी समय से पहले जन्म का खतरा अधिक होता है।

राष्ट्रीय टीकाकरण तकनीकी सलाहकार समूह (NITAG)

NITAG एक सलाहकार समिति है जिसमें विशेषज्ञों के बहु-विषयक समूह शामिल हैं जो सरकारों को टीकों से संबंधित जानकारी प्रदान करने के लिए जिम्मेदार हैं। यह जानकारी वैक्सीन और टीकाकरण नीति के संबंध में साक्ष्य-आधारित निर्णय लेने में मदद करती है। प्रत्येक देश में NITAG के अलग-अलग नाम हैं। उदाहरण के लिए, अमेरिका में इसे Advisory Committee on Immunization Practices (ACIP) कहा जाता है, यूके में इसे Committee on Vaccination and Immunisation (JCVI) कहा जाता है और इसे भारत में National Technical Advisory Group on Immunisation (NTAGI) कहा जाता है।

Tags: , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments