गाम्बिया ने ट्रैकोमा (Trachoma) को समाप्त किया

गाम्बिया हाल ही में ट्रैकोमा को खत्म करने वाला दूसरा अफ्रीकी देश बना। ट्रैकोमा अंधापन के प्रमुख कारणों में से एक है। 2018 में ट्रेकोमा को खत्म करने वाला घाना पहला अफ्रीकी देश बना था।

ट्रैकोमा क्या है? (What is Trachoma?)

यह एक जीवाणु नेत्र संक्रमण है जो आंख की पलकों को नुकसान पहुंचाता है। इससे आंख की पलकें अंदर की तरफ मुड़ जाती हैं। ट्रैकोमा उपेक्षित उष्णकटिबंधीय रोगों (Neglected Tropical Diseases) में से एक है। अगर इसे सर्जरी के साथ ठीक नहीं किया जाता है तो यह अपरिवर्तनीय दृष्टि हानि और अंधापन का कारण बन सकता है।

ट्रैकोमा जीवाणु क्लैमाइडिया ट्रैकोमैटिस (Chlamydia trachomatis) के कारण होता है।

अफ्रीका में ट्रैकोमा

2000 के बाद से बीमारी के जोखिम वाले लोगों की संख्या में 90% से अधिक की कमी आई। हालांकि, अफ्रीका में 40 से अधिक देश अभी भी ट्रैकोमा से प्रभावित हैं।

गाम्बिया की सफलता

एनजीओ, स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं और स्थानीय समुदायों द्वारा चार दशकों के मज़बूत प्रयासों के बाद गाम्बिया ने ट्रैकोमा को समाप्त कर दिया। एनजीओ की मदद से नेत्र इकाइयों का एक नेटवर्क बनाया गया था। इन इकाइयों ने ट्रैकोमा के साथ लोगों की पहचान की।

पृष्ठभूमि

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने ट्रैकोमा सहित 20 उपेक्षित उष्णकटिबंधीय रोगों से निपटने के लिए वैश्विक लक्ष्य का एक रोडमैप लॉन्च किया। इस रोडमैप का लक्ष्य 2030 तक सभी 20 बीमारियों को खत्म करना है।

भारत में ट्रैकोमा

भारत 2017 में ट्रैकोमा से मुक्त हो गया था। नेशनल ट्रेकोमा सर्वेक्षण रिपोर्ट के अनुसार, देश में ट्रेकोमा का समग्र प्रसार 0.7% था। यह विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा परिभाषित उन्मूलन मानदंडों से बहुत नीचे है।

ट्रैकोमा का क्या कारण है?

ट्रैकोमा खराब पर्यावरण और व्यक्तिगत स्वच्छता के कारण होता है। यह मुख्य रूप से तब होता है जब व्यक्ति पानी और स्वच्छता की अपर्याप्त पहुंच का सामना करता है।

Categories:

Tags: , , , , ,

« »

Advertisement

Comments