गुजरात सरकार ने बागवानी विकास मिशन की घोषणा की

गुजरात के मुख्यमंत्री ने हाल ही में “Horticulture Development Mission” की घोषणा की। इसे “बागायत विकास मिशन” भी कहा जाता है। इस मिशन का मुख्य उद्देश्य बागवानी और औषधीय खेती में शामिल किसानों की आय को दोगुना करना है।

बागवानी विकास मिशन की प्रमुख विशेषताएं

  • इस मिशन के तहत, औषधीय और बागवानी फसलों की खेती के लिए गुजरात राज्य सरकार की बेकार पड़ी भूमि को तीस साल के पट्टे पर प्रदान किया जायेगा। आवंटन के लिए उपलब्ध बेकार भूमि की एक सूची I-Khedut पोर्टल पर जारी की जाएगी।
  • यह मिशन स्प्रिंकलर और ड्रिप सिंचाई का उपयोग करके किसानों को प्राथमिकता देगा।
  • इस मिशन का पहला चरण सुरेंद्रनगर, कच्छ, साबरकांठा और पाटन जिलों में लागू किया जायेगा।
  • इस मिशन के तहत भूमि रूपांतरण पर कर को माफ किया जायेगा।
  • इस मिशन ने लीज राशि 100 रुपये से 500 रुपये प्रति वर्ष प्रति एकड़ तय की है।
  • यह मिशन लीज धारकों को बिजली पैदा करने के लिए पवन चक्कियां और सौर पैनल स्थापित करने की अनुमति देता है।
  • पट्टे की अवधि समाप्त होने से पहले जमीन वापस कर दिए जाने पर किसानों को कोई मुआवजा नहीं दिया जाएगा।
  • गुजरात के मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में एक समिति का गठन किया जायेगा। यहसमिति भूमि आवंटन पर अंतिम निर्णय करेगी।
  • इस मिशन के तहत भूमि पर हुई प्रगति का मूल्यांकन पांच वर्षों में किया जायेगा।
  • इस मिशन के तहत भूमि प्राप्त करने वाले किसान केवल फल और औषधीय पौधे ही उगा सकते हैं।वे नकदी फसलें या अनाज नहीं उगा सकते।

आई खेडुत पोर्टल (I Khedut Portal)

इस पोर्टल का मुख्य उद्देश्य किसानों से संबंधित विभिन्न योजनाओं के बारे में जानकारी प्रदान करना है। इसके अलावा, यह मौसम की स्थिति, फसलों के बाजार मूल्य और अन्य जानकारी प्रदान करता है। किसान इस पोर्टल के माध्यम से भी ट्रैक्टर के लिए आवेदन कर सकते हैं।

Categories:

Tags: , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments