ग्रामीण बुनियादी ढांचा विकास कोष (Rural Infrastructure Development Fund – RIDF) क्या है?

National Bank for Agriculture and Rural Development (NABARD) ने हाल ही में घोषणा की कि उसने अपने ग्रामीण बुनियादी ढांचा विकास कोष (Rural Infrastructure Development Fund – RIDF) से 2020-21 में असम को 1,236 करोड़ रुपये प्रदान किए।

RIDF  क्या है?

इसे 1995-96 में 2,000 करोड़ रुपये के शुरुआती कोष के साथ बनाया गया था।

2020-21 में RIDF को 29,848 करोड़ रुपये आवंटित किए गए। इसके साथ संचयी आवंटन 18,500 करोड़ रुपये तक पहुंच गया है।

योग्य गतिविधियाँ

इस फण्ड का उपयोग भारत सरकार द्वारा अनुमोदित 37 पात्र गतिविधियों के लिए किया जाएगा। इन पात्र गतिविधियों को तीन व्यापक श्रेणियों के अंतर्गत वर्गीकृत किया गया है। वे सामाजिक क्षेत्र, कृषि व संबंधित क्षेत्र और ग्रामीण संपर्क हैं।

कृषि और संबंधित क्षेत्र

  • कृषि कार्यों का मशीनीकरण
  • समर्पित ग्रामीण उद्योग सम्पदा
  • अलग फीडर लाइनें
  • सोलर फोटोवोल्टिक बिजली संयंत्र
  • सौर ऊर्जा, ऊर्जा संरक्षण, पवन ऊर्जा से संबंधित अवसंरचना कार्य।
  • तटीय क्षेत्रों में विलवणीकरण संयंत्र
  • ग्रामीण क्षेत्रों में सूचना प्रौद्योगिकी के लिए आधारभूत संरचना
  • ग्राम ज्ञान केंद्र
  • 25MW तक की मिनी हाइडल परियोजनाएं
  • मध्यम सिंचाई परियोजनाएं
  • प्रमुख सिंचाई परियोजनाएं
  • आधुनिक बूचड़खाना
  • नदी मत्स्य पालन
  • सामुदायिक सिंचाई कुआँ
  • मत्स्य पालन बंदरगाह
  • ग्रेडिंग
  • वृक्षारोपण और बागवानी
  • बीज/कृषि/बागवानी फार्म
  • मार्केट यार्ड, गोदाम, मंडी, ग्रामीण हाट, मार्केटिंग इंफ्रास्ट्रक्चर
  • कोल्ड स्टोरेज
  • जलनिकास
  • बाढ़ सुरक्षा
  • वन विकास
  • वाटरशेड विकास
  • मृदा संरक्षण
  • लघु सिंचाई परियोजनाएं

सामाजिक क्षेत्र

  • ठोस अपशिष्ट प्रबंधन
  • आंगनबाड़ियों का निर्माण
  • KVIC केंद्रों की स्थापना
  • ग्रामीण शिक्षा संस्थानों के लिए बुनियादी ढांचा
  • पेय जल
  • सार्वजनिक स्वास्थ्य संस्थान

ग्रामीण कनेक्टिविटी

ग्रामीण पुल और ग्रामीण सड़कें

पात्र संस्थान

  • राज्य सरकारें और केंद्र शासित प्रदेश
  • राज्य सरकार द्वारा प्रायोजित और समर्थित संगठन
  • राज्य के स्वामित्व वाले निगम और राज्य सरकार के उपक्रम
  • पंचायत राज संस्थाएं और स्वयं सहायता समूह

Categories:

Tags: , , , , , , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments