चीन-अमेरिका जलवायु परिवर्तन सहयोग : मुख्य बिंदु

दुनिया के दो सबसे बड़े प्रदूषक चीन और अमेरिका जलवायु परिवर्तन के मुद्दों से निपटने के लिए मिलकर काम करने पर सहमत हुए हैं। उन्होंने हाल ही में एक संयुक्त बयान जारी किया कि वे पेरिस समझौते को बनाए रखने के लिए मिलकर काम करेंगे। यह घोषणा Earth Day Leaders Summit से पहले की है।

Earth Day Leaders Summit

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाईडेन ने पीएम मोदी और राष्ट्रपति शी जिंगपिंग सहित 40 विश्व नेताओं को World Leaders Summit on Climate के लिए आमंत्रित किया है। यह शिखर सम्मेलन विश्व पृथ्वी दिवस यानी 22 अप्रैल को आयोजित किया जायेगा।

चीन के राष्ट्रीय रूप से निर्धारित लक्ष्य

चीन ने 2020 तक और 2030 तक प्राप्त करने के लिए NDC के लक्ष्य निर्धारित किए थे। वे इस प्रकार थे:

  • 2005 की तुलना में 2030 तक 60% और 65% के बीच गैर-जीवाश्म ईंधन की हिस्सेदारी को कम करना।
  • 2005 के स्तर की तुलना में 2020 तक वन में 5 बिलियन क्यूबिक मीटर और 2023 तक 6 बिलियन क्यूबिक मीटर की वृद्धि करना।
  • पवन और सौर ऊर्जा उत्पादन क्षमता को 2030 तक 1,200 GW बढ़ाया जायेगा।

दिसंबर 2020 में, चीनी राष्ट्रपति शी जिंगपिंग ने नए 2030 जलवायु लक्ष्य की घोषणा की। वे इस प्रकार थे:

  • 2030 तक सौर ऊर्जा उत्पादन क्षमता को बढ़ाकर 1,200 GW किया जायेगा।
  • 2060 तक कार्बन न्यूट्रलिटी का लक्ष्य रखा गया है।

अमेरिका के राष्ट्रीय स्तर पर निर्धारित योगदान

  • 2005 की तुलना में 2025 तक ग्रीन हाउस गैस उत्सर्जन को 26% से 28% तक कम करना।

अमेरिका 2020 में पेरिस समझौते से पीछे हट गया था।

Categories:

Tags: , , , ,

« »

Advertisement

Comments