चीन ने तियानहे अंतरिक्ष स्टेशन (Tianhe Space Station) कोर मॉड्यूल लॉन्च किया

29 अप्रैल, 2021 को चीन ने अपने स्पेस स्टेशन का मुख्य मॉड्यूल लॉन्च किया। यह अंतरिक्ष में एक स्थायी मानव उपस्थिति स्थापित करने की देश की महत्वाकांक्षी योजना में एक महत्वपूर्ण कदम है।

जो मॉड्यूल लॉन्च किया गया था, उसे तियानहे (Tianhe) कहा जाता है। चीन जो स्पेस स्टेशन बना रहा है उसे तियानगॉन्ग (Tiangong) कहा जाता है।

तियानगॉन्ग

  • तियानगॉन्ग का अर्थ है “स्वर्गीय अंतरिक्ष”।
  • यह 2022 में अपना काम शुरू करेगा।
  • अभी भी 11 और मॉड्यूल लॉन्च किए जाने हैं और अंतरिक्ष स्टेशन को पूरा करने के लिए इन्हें एसेम्बल किया जायेगा।
  • चीनी सरकार के अनुसार, पूरा अंतरिक्ष स्टेशन “मीर स्टेशन” (Mir Station) जैसा दिखेगा। मीर एक रूसी अंतरिक्ष स्टेशन था जो 1980 और 2001 के बीच कार्य करता था।
  • चीनी अंतरिक्ष स्टेशन तियानगॉन्ग 400 से 450 किलोमीटर की ऊँचाई पर पृथ्वी की निचली कक्षा में परिक्रमा करेगा।
  • इस अंतरिक्ष स्टेशन का जीवनकाल 15 वर्ष है।
  • इसका वजन 90 टन से अधिक है।
  • तियानगॉन्ग स्पेस स्टेशन का आकार अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन के आकार का एक चौथाई होगा।

पिछला चीनी मिशन

  • 2011 में, चीनी ने तियानगॉन्ग-1 को लॉन्च किया था। यह पहला प्रोटोटाइप मॉड्यूल था जिसने स्थायी रूप से चालक दल स्टेशन के लिए नींव रखी थी।
  • 2016 में, दूसरी लैब तियानगॉन्ग-2 लॉन्च की गई थी।

अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन (International Space Station)

  • इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन अमेरिका, कनाडा, रूस, जापान और यूरोप के बीच एक सहयोग है। यह 2024 में सेवानिवृत्त होगा।
  • इस सहयोग की समाप्ति के बाद, रूस अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन से अलग हो जायेगा।
  • रूस ने 2025 में अपना खुद का अंतरिक्ष स्टेशन शुरू करने की योजना बनाई है।

अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन के सेवानिवृत्त होने के बाद, तियानगॉन्ग पृथ्वी की परिक्रमा करने वाला एकमात्र अंतरिक्ष स्टेशन होगा।

Categories:

Tags: , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments