चीन ने निजी शिक्षा कंपनियों के लिए सुधार की घोषणा की

चीन ने नए नियमों की घोषणा की जिसके तहत परिवारों पर वित्तीय दबाव कम करने के लिए मुख्य स्कूल विषयों (core school subjects) में लाभ शिक्षण (profit tutoring) पर रोक लगा दी गई है। इस घोषणा के बाद चीन की निजी शैक्षणिक फर्में बड़े पैमाने पर प्रभावित होंगी। इसके बाद शैक्षिक कंपनियों के शेयरों में बिकवाली शुरू हो गई।

मुख्य बिंदु

  • चीन द्वारा घोषित नए नियम शैक्षिक फर्मों पर प्रतिबंध लगाते हैं जो स्कूल पाठ्यक्रम को पूंजी जुटाने, लाभ कमाने या सार्वजनिक होने से रोकते हैं।
  • नियामकों ने यह भी कहा कि अब कोई नया लाइसेंस नहीं दिया जाएगा।

घोषणा के बाद का प्रभाव

  • ताल (Tal) के शेयरों में 71% की गिरावट आई।
  • कूलर्न, न्यू ओरिएंटल, चाइना बेस्ट स्टडी और स्कॉलर एजुकेशन के शेयर में 30% से 40% की गिरावट आई।

नियम परिवर्तन लागू करने का कारण

चीन ने अभिभावकों पर लागत का बोझ कम करने और स्कूली बच्चों पर दबाव कम करने के उद्देश्य से देश के लाभकारी शिक्षा क्षेत्र को जांच के दायरे में रखा है।

निष्कर्ष

मई के महीने में, चीनी सरकार ने घोषणा की कि वह पिछली दो बच्चों वाली नीति में बदलाव करके तीन बच्चे पैदा करने की अनुमति देगी। इसे ध्यान में रखते हुए देश के नियमों में कुछ बदलाव किया जा रहा है। दीदी ग्लोबल (Didi Global Inc) और एंट ग्रुप कंपनी (Ant Group Co) जैसी देश की शक्तिशाली टेक फर्मों पर लगाम लगाने के सरकार के कदमों ने वैश्विक निवेशकों को पलायन करने के लिए बाध्य कर दिया है।

Categories:

Tags: , , ,

« »

Advertisement

Comments