चीन में अब तक का सबसे लंबा सूखा दर्ज किया गया

चीन अब तक के सबसे बड़े सूखे का सामना कर रहा है। इस सूखे ने नदियों को सुखा दिया है और पनबिजली संयंत्रों में बिजली उत्पादन को प्रभावित किया है। 

मुख्य बिंदु

64 वर्षों के बाद, चीन को सबसे लंबी गर्मी का सामना करना पड़ा और इसके परिणामस्वरूप, एशिया की सबसे लंबी नदी यांग्त्ज़ी, जो चीन की सबसे बड़ी नदी है, सूख गई है। यांग्त्ज़ी के सूखने से बांध में पानी की कमी हो गई है और जलविद्युत शक्ति प्रभावित हुई है, जिससे बड़े शहरों या छोटे शहरों को बिजली संकट का सामना करना पड़ रहा है।

इसे देखते हुए चीनी सरकार ने पिछले हफ्ते सिचुआन में हजारों फैक्ट्रियों को बिजली की आपूर्ति निलंबित या सीमित कर दी थी। जिसके बाद टोयोटा, फॉक्सकॉन और टेस्ला जैसी कंपनियों ने चीन में स्थापित अपने कुछ संयंत्रों में परिचालन को अस्थायी रूप से निलंबित कर दिया है।

चीन के सिचुआन, हेबेई, हुनान, जियांग्शी, अनहुई और चोंगकिंग प्रान्त में सूखे ने कम से कम 2.46 मिलियन लोगों और 2.2m हेक्टेयर कृषि भूमि को प्रभावित किया है। वहीं, चीन के आपातकालीन प्रबंधन मंत्रालय के अनुसार सूखे के कारण 780,000 से अधिक लोगों को सीधे सरकारी सहायता की आवश्यकता है।

इतने सालों के बाद आए इस सूखे की वजह से अकेले जुलाई में चीन को 2.73 अरब युआन का सीधा आर्थिक नुकसान हुआ है, जिससे 55 लाख लोग प्रभावित हुए हैं।

यांग्ज़ी नदी (Yangtze River)

यह एशिया की सबसे लंबी और दुनिया की तीसरी सबसे लंबी नदी है। यह नदी पूरी तरह से एक देश के भीतर बहने वाली दुनिया की सबसे लंबी नदी भी है। यह तिब्बती पठार में तंगगुला पर्वत (Tanggula Mountains) में जरी पहाड़ी (Jari Hill) से निकलती है और पूर्वी चीन सागर में बहने के लिए पूर्व दिशा में 6,300 किमी तक बहती है। इसे दुनिया में डिस्चार्ज वॉल्यूम के हिसाब से छठी सबसे बड़ी नदी माना जाता है।

Categories:

Tags: , , , , ,

« »

Advertisement

Comments