जल जीवन मिशन ने लांच की नई नवाचार चुनौती

हाल ही में जल जीवन मिशन और उद्योग व आंतरिक व्यापार संवर्धन विभाग ने पोर्टेबल जल परीक्षण उपकरणों को विकसित करने के लिए एक नवाचार चुनौती लांच की है।

मुख्य बिंदु

इस चुनौती का उद्देश्य पीने के पानी की गुणवत्ता के परीक्षण के लिए एक सस्ता और मॉड्यूलर समाधान विकसित करना है, जिसका उपयोग घरेलू स्तर पर भी किया जा सकता है। यह इनोवेशन चैलेंज व्यक्तियों, स्टार्टअप्स, MSMEs और कॉर्पोरेट्स के लिए खुला हुआ है। इसके लिए  इच्छुक उम्मीदवार 18 जनवरी तक भाग ले सकते हैं।

इस चुनौती के तहत 3 प्रकार के उपकरणों बनाने का प्रस्ताव रखी गयी है। पहला उपकरण एक या अधिक मापदंडों का परीक्षण कर सकता है; दूसरा उपकरण घुले हुए ठोस पदार्थों, पीएच, जीवाणु संदूषण, क्षारीयता और कई अन्य सामग्री संदूषकों की उपस्थिति की जांच कर सकती है। तीसरा उपकरण माइक्रोबियल संदूषण की जाँच कर सकता है।

इस चुनौती के परिणाम अगले वर्ष 1 अप्रैल को घोषित किए जाएंगे। चुने गये नवाचारों को सभी प्रकार की सहायता प्रदान की जाएगी।

जल जीवन मिशन

यह एक राष्ट्रीय मिशन है, इसका उद्देश्य 2024 तक हर घर में नल के द्वारा पीने योग्य पानी उपलब्ध करवाना है। इस मिशन की 15 अगस्त, 2019 को की गयी थी। इस मिशन के तहत अब तक 2 करोड़ 90 लाख घरों में नल द्वारा जल कनेक्शन उपलब्ध कराया गया है।

DPIIT (आन्तरिक व्यापार और उद्योग संवर्धन विभाग)

यह वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय के अधीन एक विभाग है। यह विभाग औद्योगिक विकास के लिए विकासात्मक उपायों को तैयार करता है और उन्हें लागू करने में सहायता करता है।

Categories:

Tags: , , , , ,

« »

Advertisement

Comments