जल जीवन मिशन : सरकार महिलाओं को पानी की गुणवत्ता का परीक्षण करने के लिए प्रशिक्षण देगी

केन्द्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र शेखावत ने हिंदुस्तान टाइम्स एनवायरनमेंट कॉन्क्लेव को संबोधित किया। इस कॉन्क्लेव के दौरान, मंत्री ने घोषणा की कि सरकार जल जीवन मिशन के तहत महिलाओं को पानी की गुणवत्ता का परीक्षण करने के लिए प्रशिक्षित करेगी।

मुख्य बिंदु

गजेंद्र शेखावत के अनुसार, केंद्र सरकार जल जीवन मिशन के हिस्से के रूप में मामूली शुल्क पर पानी की गुणवत्ता का परीक्षण करने के लिए हर गांव से पांच महिलाओं को प्रशिक्षण प्रदान करेगी। सरकार का लक्ष्य है कि 2022 तक सभी को सुरक्षित पेयजल उपलब्ध कराने के लिए जल जीवन मिशन के तहत हर गांव में जल-गुणवत्ता परीक्षण बुनियादी ढांचे को सुलभ बनाया जाए। किसी देश में सुरक्षित पेयजल के लिए सार्वभौमिक पहुंच के लक्ष्य तक पहुंचने के लिए गांवों में पाइप द्वारा पेयजल आपूर्ति एक महत्वपूर्ण घटक है।

WaterAid नामक एनजीओ के अनुसार, 2015 में भारत में 163 मिलियन लोगों के पास स्वच्छ पानी तक पहुंच नहीं थी।

अब, महामारी के दौरान स्थिति में काफी सुधार हुआ है। शुरुआत में, केवल 17% परिवारों के पास पीने के पानी तक पहुंच थी जो अब महामारी और लॉकडाउन के दौरान बढ़कर 3.30 करोड़ परिवारों तक पहुँच गई है।

जल संरक्षण के लिए अन्य कार्यक्रम

इस कॉन्क्लेव के दौरान कई कार्यक्रमों जैसे अटल भूजल मिशन, जल शक्ति अभियान, बांध पुनर्वास योजना, “Catch the rain where it falls” आदि पर प्रकाश डाला गया।

भूजल प्रबंधन में सुधार के लिए 25 दिसंबर, 2019 को ‘अटल भूजल मिशन’ शुरू किया गया था। जल सुरक्षा और संरक्षण के लिए 2019 में ‘जल शक्ति अभियान’ शुरू किया गया था।

Categories:

Tags: , , , , , , , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments