जापान में एवियन इन्फ्लुएंजा का प्रकोप, जानिए क्या है एवियन इन्फ्लुएंजा?

हाल ही में एवियन इन्फ्लूएंजा रोग जापान के ह्युगा शहर में एक पोल्ट्री फार्म में पाया गया। हर बड़े फार्म में लगभग 40,000 मुर्गे मारे जा रहे हैं और उन्हें दफनाया जा रहा है। साथ ही, संक्रमित फार्म के आस-पास और 3 किमी के दायरे में निर्यात प्रतिबंधित कर दिया गया है। सितंबर 2020 में प्रकोप शुरू होने के बाद से अब तक लगभग 1.8 मिलियन मुर्गों को मारा जा चुका है।

सितंबर 2020 में शुरू होने वाले वर्तमान प्रकोप को 2016 के बाद से जापान में सबसे बड़ा प्रकोप माना जा रहा है। 2018 में, जापान को बर्ड फ्लू का प्रकोप का सामना करना पड़ा था।

एवियन इन्फ्लूएंजा क्या है?

यह एक अत्यधिक संक्रामक वायरल बीमारी है जो टर्की, चिकन, गिनी फाउल जैसे पक्षियों को प्रभावित करती है। वे कभी-कभी मनुष्यों सहित स्तनधारियों को भी संक्रमित करते हैं। एवियन इन्फ्लूएंजा वायरस को उनकी सतह के प्रोटीन के आधार पर दो प्रकारों में वर्गीकृत किया जाता है, जैसे हेमग्लगुटिनिन और न्यूरोमिनिडेस।

भारत में एवियन इन्फ्लूएंजा

सितंबर 2019 में, भारत को एवियन इन्फ्लूएंजा से मुक्त घोषित किया गया था। यह स्टेटस केवल अगले प्रकोप तक रहेगा। पिछली बार भारत में 2017 में एवियन इन्फ्लूएंजा का प्रकोप दर्ज किया गया था।

H5N1

सभी ज्ञात इन्फ्लूएंजा वायरस में, H5N1 को अत्यधिक घातक माना जाता है। यह इंसानों को संक्रमित करने वाला पहला एवियन इन्फ्लूएंजा वायरस था। H5N1 का पहला संक्रमण 1997 में हांगकांग में हुआ था। H5N1 स्वाभाविक रूप से जलपक्षी (waterfowl) में होता है।

ग्लोबल इन्फ्लुएंजा रणनीति, 2019-30

इस रणनीति का उद्देश्य वायरस के प्रसार को नियंत्रित करना और मौसमी इन्फ्लूएंजा को रोकना है। इसे विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा लॉन्च किया गया था। इस रणनीति की मुख्य विशेषताएं निम्नलिखित हैं :

  • इस रणनीति के तहत विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रत्येक सदस्य देश को नियमित स्वास्थ्य कार्यक्रमों को मजबूत करना चाहिए।
  • विश्व स्वास्थ्य संगठन रोग के प्रसार को रोकने के लिए फ्लू के टीके की सिफारिश करता है।
  • सदस्य देशों को अधिक प्रभावी और सुलभ टीके और एंटीवायरल उपचार विकसित करना चाहिए।

Global Influenza Surveillance and Response System (GISRS)

यह 1952 में शुरू किया गया था। इसमें राष्ट्रीय इन्फ्लुएंजा केंद्र और WHO सहयोगी केंद्र शामिल हैं। यह सिस्टम मुख्य रूप से संभावित महामारी वायरस के प्रकोप की निगरानी पर केंद्रित है। यह इन्फ्लूएंजा के लिए ग्लोबल अलर्ट सिस्टम की रीढ़ है।

Categories:

Tags: , , , , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments