डेनमार्क विश्व के पहले ऊर्जा द्वीप का निर्माण करेगा

डेनमार्क ने हाल ही में दुनिया के पहले ऊर्जा क्षेत्र द्वीप के निर्माण की योजना के लिए अपनी मंजूरी दे दी है। इस ऊर्जा द्वीप का निर्माण उत्तरी सागर में किया जाएगा।

मुख्य बिंदु

  • इस ऊर्जा द्वीप का उपयोग लगभग 3 मिलियन यूरोपीय घरों की बिजली की मांगों को पूरा करने के लिए पर्याप्त हरी ऊर्जा का उत्पादन और भंडारण करने के लिए किया जाएगा।
  • उत्तरी सागर में यह कृत्रिम द्वीप 18 फुटबॉल मैदानों के आकार के बराबर होगा।
  • इस ऊर्जा द्वीप को सैकड़ों अपतटीय पवन टरबाइनों से जोड़ा जाएगा ताकि घरों में बिजली की आपूर्ति की जा सके।
  • इसका उपयोग भारी परिवहन, शिपिंग, विमानन और उद्योग में उपयोग करने के लिए ग्रीन हाइड्रोजन की आपूर्ति के लिए भी किया जाएगा।

ऊर्जा द्वीप

इस ऊर्जा द्वीप का निर्माण उत्तरी सागर में किया जाएगा। इस परियोजना पर लगभग 210 बिलियन डेनिश क्राउन का निवेश किया जायेगा। इसका निर्माण डेनमार्क के पश्चिमी तट से 80 किलोमीटर दूर किया जाएगा। यह ऊर्जा द्वीप पवन टरबाइन से घिरा होगा और इसकी शुरूआती क्षमता 3 गीगावाट होगी। डेनमार्क ने 2033 तक ऊर्जा द्वीप को चालू करने की योजना बनाई है।

डेनमार्क की नवीकरणीय ऊर्जा नीति

डेनमार्क ने 1990 में स्तरों की तुलना में 2030 तक ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन में 70% तक कटौती करने के प्रयास के रूप में इस ऊर्जा द्वीप का निर्माण करने का निर्णय लिया है। यह लक्ष्य देश का सबसे महत्वाकांक्षी लक्ष्य है जो कानूनन बाध्यकारी है।

उत्तरी सागर (North Sea)

यह अटलांटिक महासागर का एक समुद्र है। यह समुद्र ग्रेट ब्रिटेन से घिरा हुआ है, इसके अलावा डेनमार्क, जर्मनी, नॉर्वे, बेल्जियम, फ्रांस और नीदरलैंड से भी इसकी सीमा लगती है। उत्तरी सागर इंग्लिश चैनल द्वारा दक्षिण में महासागर और उत्तर में नॉर्वेजियन सागर से जुड़ता है।

Categories:

Tags: , , , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments