तुर्की की साल्दा झील को ‘Mars on Earth’ क्यों कहा जाता है?

वैज्ञानिक मंगल ग्रह पर प्राचीन जीवन के संकेतों की तलाश कर रहे हैं, इसके लिए नासा के परसेवेरांस रोवर (Perseverance Rover) द्वारा एकत्र किए गए डेटा का उपयोग किया जा रहा है। वैज्ञानिकों ने पाया कि इस मिशन पर एकत्र किया गया डेटा दक्षिण-पश्चिम तुर्की में स्थित साल्दा झील (Salda Lake) से मिलता-जुलता है।

मुख्य बिंदु

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी, नासा ने कहा कि साल्दा झील में खनिज और चट्टानें, जेजेरो क्रेटर पर जमा चट्टानों से मिलती-जुलती है, जेजेरो क्रेटर पर  यह अंतरिक्ष यान उतरा था। माना जाता है कि जेज़ेरो क्रेटर एक बार पानी से भर गया था। साल्दा झील से जो जानकारी एकत्र की गई थी, वह वैज्ञानिकों को सूक्ष्मजीवों के जीवाश्म के निशान की खोज करने में मदद करेगी जो कि तलछट और लंबे समय से लुप्त हो चुकी झील के आसपास जमा तलछट में संरक्षित है।

साल्दा झील

यह एक मध्य आकार की क्रेटर झील है जो दक्षिण-पश्चिमी तुर्की में स्थित है। यह बर्दुर प्रांत (Burdur Province) में येसिलोवा जिले की सीमाओं के भीतर स्थित है। यह झील बर्दुर से पश्चिम में लगभग पचास किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यह झील तुर्की झीलों के क्षेत्र में शामिल है, जो आंतरिक पश्चिमी से दक्षिणी अनातोलिया तक फैला हुआ है। इसमें 4,370 हेक्टेयर का क्षेत्रफल और 196 मीटर की गहराई है।

जेजेरो क्रेटर

यह क्रेटर Syrtis Major quadrangle में मंगल पर स्थित है। इसका व्यास लगभग 49.0 किमी है। माना जाता है कि यह गड्ढा एक बार पानी से भर गया था। इसमें फैन-डेल्टा जैसी आकृतियाँ बनीं हैं। डेल्टा और चैनलों के एक अध्ययन से, वैज्ञानिकों ने निष्कर्ष निकाला था कि क्रेटर के अंदर झील का निर्माण उस अवधि के दौरान हुआ था जब निरंतर जल अपवाह था।

Categories:

Tags: , , , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments