दिल्ली सरकार ने ‘देशभक्ति’ बजट पेश किया

दिल्ली सरकार ने 9 मार्च, 2021 को वित्तीय वर्ष 2021-2022 के लिए बजट पेश किया। सरकार ने 69,000-करोड़ का बजट पेश किया जो देशभक्ति पर आधारित था।

मुख्य बिंदु

दिल्ली के उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया द्वारा बजट पेश किया गया था। बजट पेश करते हुए उन्होंने घोषणा की कि सरकार ने भारत का 75वां स्वतंत्रता दिवस मनाने का फैसला किया है। दिल्ली सरकार 12 मार्च, 2021 से कार्यक्रम आयोजित करेगी जो 75 सप्ताह तक चलेगा।

बजट की मुख्य विशेषताएं

उपमुख्यमंत्री ने घोषणा की कि, “देशभक्ति बजट” के तहत, सरकार ने दिल्ली में 500 स्थानों पर राष्ट्रीय ध्वज फहराने के लिए उच्च मस्तूल स्थापित करने के लिए 45 करोड़ रुपये आवंटित करने का प्रस्ताव किया है। देशभक्ति काल का आयोजन शहर के स्कूलों में किया जाएगा। बजट में कहा गया है कि, सरकार वर्ष 2047 तक सिंगापुर के स्तर तक पहुंचने के लिए दिल्ली की प्रति व्यक्ति आय में वृद्धि करना चाहती है। सरकार देशभक्ति समारोह के दौरान भगत सिंह के जीवन पर होने वाले कार्यक्रमों के लिए 10 करोड़ रुपये भी आवंटित करेगी।

दिल्ली की अर्थव्यवस्था

दिल्ली की अर्थव्यवस्था सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में 13वीं सबसे बड़ी है। दिल्ली के नॉमिनल जीएसडीपी का अनुमान वित्तीय वर्ष 2017-18 के लिए 6.86 लाख करोड़ रुपये था। वर्ष 2014-15 में विकास दर 9.2% थी। वर्ष 2017-18 में, तृतीयक क्षेत्र ने दिल्ली में GSDP का लगभग 85% योगदान दिया था जबकि द्वितीयक और प्राथमिक क्षेत्रों ने क्रमशः 12% और 3% का योगदान दिया था। सेवा क्षेत्र ने 7.3% की वार्षिक वृद्धि दर्ज की थी। राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र उत्तर भारत का सबसे बड़ा व्यावसायिक केंद्र है। हाल के अनुमानों के अनुसार, 2020 तक, दिल्ली में शहरी क्षेत्र की अर्थव्यवस्था $ 295 बिलियन थी।

Categories:

Tags: , , , , ,

« »

Advertisement

Comments