दिव्यांगों के लिए विशेष ई-कंटेंट जारी किया गया

केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ ने समावेशी शिक्षा को बढ़ावा देने के उद्देश्य से दिव्यांग बच्चों के लिए ई-सामग्री विकसित करने के लिए दिशानिर्देशों को मंजूरी दी।

पीएम ई-विद्या कार्यक्रम (PM eVidya Programme)

पीएम ई-विद्या कार्यक्रम 17 मई, 2020 को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा COVID-19 राहत उपायों के रूप में लांच किया गया था। इस कार्यक्रम के तहत, विशेषज्ञ समिति ने दिव्यांगों या विकलांग बच्चों के लिए सुलभ विशेष ई-सामग्री (e-content) बनाने पर विस्तृत सिफारिशें की हैं।

सिफारिशें

  • इस समिति ने ‘Guidelines for the Development of e-Content for Children with Disabilities’ नामक रिपोर्ट प्रस्तुत की।इसमें दृष्टिबाधित (visually-impaired) और श्रवण बाधित (hearing-impaired) छात्रों के लिए ई-सामग्री बनाने पर 11 सेक्शन और दो परिशिष्ट (appendices) हैं।
  • इस रिपोर्ट ने रेडियो, सामुदायिक रेडियो और पॉडकास्ट के व्यापक उपयोग पर विशेष जोर दिया।यह क्यूआर-कोडेड डिजिटल पाठ्यपुस्तकों को अपलोड करने की भी सिफारिश करती है।
  • सामग्री को “अंतर्राष्ट्रीय पहुंच मानकों” का पालन करना चाहिए।
  • सामग्री को कई प्रारूपों में प्रदान किया जाना चाहिए जैसे टेक्स्ट, वीडियो, ऑडियो, साइन लैंग्वेज टर्न-ऑन और टर्न-ऑफ सुविधाओं के साथ।
  • दीक्षा (DIKSHA) और ई-पाठशाला जैसे ई-लर्निंग प्लेटफॉर्म को तकनीकी मानकों का पालन करना चाहिए।
  • इंटरनेट पर अतिरिक्त जानकारी तक पहुंचने के लिए सामग्री को वर्णनात्मक हाइपरलिंक के साथ प्रदान किया जाना चाहिए।

प्रशिक्षण के लिए ई-मॉड्यूल

यह समिति सामग्री डेवलपर्स और क्यूरेटर को सुलभ सामग्री बनाने और क्यूरेट करने के लिए प्रशिक्षित करने के लिए ई-मॉड्यूल बनाने की भी सिफारिश करती है। सभी सामग्री डेवलपर्स और क्यूरेटर के लिए प्रशिक्षण मॉड्यूल के माध्यम से अनिवार्य रूप से गुजरना होगा।

Categories:

Tags: , , , , ,

« »

Advertisement

Comments