नासा ने शुक्र ग्रह के लिए दो रोबोटिक मिशनों की घोषणा की

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा (NASA) ने शुक्र ग्रह पर वायुमंडल और भूवैज्ञानिक विशेषताओं की जांच के लिए शुक्र के लिए अपने दो नए रोबोटिक मिशन दाविन्ची+ (Davinci+) और वेरिटास (Veritas) की घोषणा की है।

मुख्य बिंदु

प्रत्येक मिशन को $500m फंडिंग दी गयी है। उन्हें 2028 और 2030 के बीच लॉन्च किया जाएगा। यह मिशन शुक्र ग्रह की जांच करने का मौका प्रदान करेंगे जो लगभग 30 वर्षों में प्रदान नहीं किया गया है। दोनों मिशनों को यह समझने के उद्देश्य से लॉन्च किया जाएगा कि शुक्र की सतह सीसा को पिघलाने में कैसे सक्षम है और यह ग्रह कैसे एक नरक जैसी दुनिया बन गया।

दाविन्ची+ मिशन (Davinci+ Mission)

Davinci+ का अर्थ “Deep Atmosphere Venus Investigation of Noble gases, Chemistry, and Imaging” मिशन है। यह मिशन शुक्र ग्रह के निर्माण और विकास के बारे में जानकारी प्राप्त करने के लिए यह शुक्र के वातावरण का अध्ययन करेगा। इस मिशन द्वारा यह भी पता लगाया जायेगा कि क्या कभी शुक्र ग्रह पर महासागर था या नहीं।

वेरिटास मिशन (Veritas Mission)

वेरिटास मिशन का अर्थ “Venus Emissivity, Radio Science, InSAR, Topography, and Spectroscopy” है। यह अपने भूगर्भिक इतिहास को समझने के लिए शुक्र की सतह का नक्शा तैयार करेगा। यह जांच करेगा कि यह पृथ्वी से अलग कैसे विकसित हुआ। यह सतह की ऊंचाई की जांच के लिए रडार का उपयोग करेगा और पता लगाएगा कि ज्वालामुखी और भूकंप अभी भी हो रहे हैं या नहीं।

पृष्ठभूमि

शुक्र ग्रह पर अंतिम बार 1990 में मैगलन ऑर्बिटर गया थ।

शुक्र ग्रह (Venus)

शुक्र सौरमंडल का सबसे गर्म ग्रह है और सूर्य से दूसरा ग्रह है। इसकी सतह का तापमान 500 डिग्री सेल्सियस है जो सीसा को पिघलाने के लिए पर्याप्त गर्म है।

Categories:

Tags: , , , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments