नीति आयोग ने ‘नॉट-फॉर-प्रॉफिट’ अस्पताल मॉडल पर अध्ययन किया

नीति आयोग ने 29 जून, 2020 को भारत में गैर-लाभकारी अस्पताल मॉडल पर एक व्यापक अध्ययन जारी किया है।

मुख्य बिंदु

  • नीति आयोग के अनुसार, यह ऐसे संस्थानों पर सूचना के अंतर को बंद करने के लिए एक महत्वपूर्ण कदम है।
  • यह अध्ययन निजी क्षेत्र में स्वास्थ्य क्षेत्र के विस्तार में कम निवेश की पृष्ठभूमि में आयोजित किया गया था।
  • यह रिपोर्ट गैर-लाभकारी अस्पतालों के संचालन मॉडल में अंतर्दृष्टि (insight ) प्रदान करती है।

रिपोर्ट के निष्कर्ष

  • नीति आयोग लाभकारी और गैर-लाभकारी अस्पतालों में अस्पताल में भर्ती होने के मामलों के बीच बढ़ती असमानता पर प्रकाश डालता है।
  • इस रिपोर्ट के अनुसार, जून 2018 तक, गैर-लाभकारी अस्पतालों (not-for-profit hospitals) में इलाज की गई बीमारियों का 1% हिस्सा है।
  • लाभ के लिए अस्पतालों (for-profit hospitals) में रोगियों का 3% हिस्सा है।दूसरी ओर, गैर-लाभकारी अस्पतालों में रोगियों का 2.7% हिस्सा है।
  • डॉक्टर या सर्जन का शुल्क 36% कम है जबकि बिस्तर शुल्क, जो लाभकारी अस्पतालों की तुलना में लगभग 44% कम है।
  • गैर-लाभकारी अस्पतालों में ओपीडी देखभाल की संचयी लागत निजी लाभकारी अस्पतालों की तुलना में लगभग एक तिहाई कम है।

NSS 75वें दौर का डेटा

इस डेटा के अनुसार, गैर-लाभकारी अस्पताल रोगियों को लाभकारी अस्पतालों की तुलना में 26% कम पर दवाएं उपलब्ध कराते हैं। यह इस बात पर भी प्रकाश डालता है कि गैर-लाभकारी अस्पतालों में डॉक्टर की फीस लगभग 18% कम है।

आगे का रास्ता

नीति आयोग ने दान के लिए 100% आयकर छूट, सरकारी योजनाओं और अनुदानों से बकाया राशि को तेजी से जारी करके गैर-लाभकारी अस्पतालों को मजबूत करने का आह्वान किया। गैर-लाभकारी अस्पतालों को ग्रामीण भारत में स्वास्थ्य देखभाल के लिए प्राथमिक स्वास्थ्य देखभाल (PHC) के बुनियादी ढांचे का उपयोग करने की अनुमति दी जानी चाहिए।

Categories:

Tags: , , , , ,

« »

Advertisement

Comments