नीदरलैंड में पानी की कमी : मुख्य बिंदु

नीदरलैंड में राष्ट्रीय जल स्तर अब तक के सबसे निचले स्तर तक गिर गया है। नतीजतन, देश पानी की कमी से जूझ रहा है। जल संकट प्रबंधन दल के अनुसार देश में लगातार सूखे की वजह से ‘पानी की कमी’ हो गई है। पानी की कमी से पता चलता है कि, राइन नदी (Rhine River) का पानी सामान्य से 50% कम पानी की आपूर्ति कर रहा है।

मुख्य बिंदु 

  • लंबे समय में पानी की कमी के कारण मिट्टी का लवणीकरण (salinisation) हो सकता है, जिससे कृषि उद्योग प्रभावित हो सकता है।
  • नीदरलैंड पानी की प्रचुरता के लिए जाना जाता है। इस तथ्य के बावजूद, पिछले 22 वर्षों में पांचवीं बार पानी की कमी घोषित की गई है।
  • पानी की कमी की स्थिति अब 2003 में तीसरे स्तर के खतरे तक बढ़ गई है। 
  • नीदरलैंड नम और अप्रत्याशित मौसम के लिए जाना जाता है। हालांकि, वर्ष 2022 में जलवायु परिवर्तन के कारण मौसम बेहद शुष्क हो गया है।

हालांकि, पानी की कमी के कारण नागरिक या निवासी ज्यादा प्रभावित नहीं होंगे। लेकिन यह अभी के लिए शिपिंग और खेती जैसे कुछ उद्योगों में काम करने वालों को प्रभावित करेगा। देश में प्रकृति पर भी असर पड़ेगा। जल संकट प्रबंधन टीम अब पानी की कमी से निपटने के लिए कार्य योजना लागू कर रही है। अनेक विचार प्रस्तुत किए जा रहे हैं। ऐसा ही एक विचार है- डायमेन में बबल स्क्रीन स्थापित करना। बबल स्क्रीन नमक और ताजे पानी को अलग करने में मदद करेगी और इस प्रकार लवणीकरण को रोकेगी।

Categories:

Tags: , , , ,

« »

Advertisement

Comments