नीरज चोपड़ा को परम विशिष्ट सेवा मेडल से सम्मानित किया गया

ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता नीरज चोपड़ा को परम विशिष्ट सेवा पदक से सम्मानित किया गया। नीरज चोपड़ा ने देश का पहला एथलेटिक गोल्ड मेडल जीतकर भारत का नाम रौशन किया। टोक्यो ओलंपिक में, चोपड़ा ने 87.58 मीटर तक भाला फेंककर पदक जीता।

नीरज चोपड़ा की उपलब्धियां

नीरज चोपड़ा को 2018 में अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। 2020 में उन्हें विशिष्ट सेवा पदक से सम्मानित किया गया था। 2016 में, चोपड़ा को नायब सूबेदार के रूप में राजपुताना राइफल्स में नामांकित किया गया था। वह पुणे में बेस्ड आर्मी स्पोर्ट्स इंस्टीट्यूट में संचालित मिशन ओलंपिक विंग का हिस्सा थे। मिशन ओलंपिक विंग भारतीय सेना की एक पहल थी। इस पहल के तहत सेना ने योग्य खिलाड़ियों की पहचान की और उन्हें विभिन्न विषयों में प्रशिक्षित किया। 

नायब सूबेदार

यह भारतीय सेना में एक रैंक है। नायब सूबेदार जूनियर कमीशंड अधिकारी हैं। उनके पद लेफ्टिनेंट से कम और हवीदारों से ऊंचे होते हैं।

परम विशिष्ट सेवा मेडल

इस पुरस्कार का गठन 1960 में किया गया था। यह शांति काल की सेवाओं के लिए दिया जाता है। कानूनी रूप से गठित सशस्त्र बल, प्रादेशिक सेना, आरक्षित बल; सहायक और नर्सिंग अधिकारी इस पुरस्कार के लिए पात्र हैं। यह सर्वोत्तम युद्ध सेवा पदक के बराबर है। यह पद्म भूषण से नीचे और महावीर चक्र से ऊपर है।

यह पदक आकार में गोल है। इसका व्यास 35 मिमी है। यह सोने के गिल्ट से बना है। इस पदक के ऊपर एक पाँच नुकीला तारा उभरा होता है। 

भारत में सैन्य पुरस्कार

  • शांतिकाल: परम विशिष्ट सेवा पदक, अति विशिष्ट सेवा पदक और विशिष्ट सेवा पदक
  • युद्धकाल: युद्ध सेवा पदक, उत्तम युद्ध सेवा पदक, सर्वोत्तम युद्ध सेवा पदक
  • युद्धकालीन या शांतिकालीन सेवा पुरस्कार: वायु सेना पदक (वायु सेना), सेना पदक (सेना) और नौ सेना पदक (नौसेना)

Categories:

Tags: , , , , ,

« »

Advertisement

Comments

  • Pradeep yadav
    Reply

    Hamare desh ki shaan he subedar neeraj Chopra ji