पशुपालन और डेयरी विभाग ने Dairy Investment Accelerator लॉन्च किया

भारत सरकार के पशुपालन और डेयरी विभाग (DAHD) ने अपने निवेश सुविधा प्रकोष्ठ (Investment Facilitation Cell) के तहत डेयरी निवेश एक्सेलरेटर (Dairy Investment Accelerator) की स्थापना की है।

डेयरी निवेश एक्सेलरेटर (Dairy Investment Accelerator)

  • यह देश के डेयरी क्षेत्र में निवेश को बढ़ावा देने और सुगम बनाने की दिशा में कार्य करने के उद्देश्य से स्थापित किया गया है।
  • डेयरी इन्वेस्टमेंट एक्सेलेरेटर एक क्रॉस फंक्शनल टीम है जिसे निवेशक इंटरफेस के रूप में काम करने के लिए गठित किया गया है।
  • यह निवेश एक्सेलरेटर पूरे निवेश चक्र (investment cycle) में सहायता प्रदान करेगा।यह निवेश के अवसरों के मूल्यांकन के संबंध में इनपुट प्रदान करेगा और सरकार को आवेदन के बारे में विभिन्न प्रश्नों को भी संबोधित करेगा।
  • डेयरी निवेश एक्सेलरेटर स्थानीय और वैश्विक उद्योग प्रतिभागियों के साथ कार्यक्रम आयोजित करने के लिए पशुपालन और डेयरी विभाग के साथ मिलकर काम करेगा और निवेशकों के साथ उनके दृष्टिकोण को बेहतर ढंग से समझने के लिए आमने-सामने चर्चा करने में भी मदद करेगा।यह विभिन्न सरकारी अधिकारियों के साथ सीधे बातचीत की सुविधा भी प्रदान करेगा।

पशुपालन अवसंरचना विकास कोष (Animal Husbandry Infrastructure Development fund – AHIDF)

पशुपालन और डेयरी विभाग (DAHD) द्वारा शुरू की गई पशुपालन अवसंरचना विकास निधि एक प्रमुख योजना है। इस योजना के तहत निजी कंपनियों, उद्यमियों, किसान उत्पादक संगठनों (FPOs), MSME और धारा 8 कंपनियों को वित्तीय सहायता देने के लिए 15,000 करोड़ रुपये की व्यवस्था की गई है। इस योजना का लाभ डेयरी प्रसंस्करण, पशु चारा संयंत्र और मांस प्रसंस्करण और इससे संबंधित बुनियादी ढांचे के क्षेत्रों में नई इकाइयों के विस्तार या स्थापना के लिए लिया जा सकता है।

इस योजना के लाभ 6 साल की चुकौती अवधि (repayment period) के साथ 2 साल की मोहलत (moratorium) के साथ ऋण पर 3% ब्याज सबवेंशन हैं। साथ ही 750 करोड़ रुपये की क्रेडिट गारंटी भी दी जाएगी।

Categories:

Tags: , , , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments