पहली भारत-नेपाल भारत गौरव पर्यटक ट्रेन को रवाना किया गया

21 जून, 2022 को, पहली भारत-नेपाल भारत गौरव पर्यटन ट्रेन को दिल्ली के सफदरजंग रेलवे स्टेशन से हरी झंडी दिखाई गई।

मुख्य बिंदु

  • इस ट्रेन में 500 भारतीय पर्यटक सवार हैं।
  • यह 23 जून को नेपाल के जनकपुर धाम स्टेशन पर पहुंचेगी।
  • यह पर्यटक ट्रेन पहली बार भारत और नेपाल को जोड़ेगी।

रामायण सर्किट के लिए भारत गौरव पर्यटक ट्रेन

भारत और नेपाल के बीच भारत गौरव पर्यटक ट्रेन देश भर के लोगों को देश के स्थापत्य, ऐतिहासिक और सांस्कृतिक चमत्कारों का पता लगाने का अवसर प्रदान करेगी। इस ट्रेन ने 21 जून से 18 दिनों के लिए अपनी पहली श्री रामायण यात्रा शुरू की। इस ट्रेन की पहली यात्रा अयोध्या, नंदीग्राम, वाराणसी, सीतामढ़ी, चित्रकूट, प्रयागराज, हम्पी, पंचवटी (नासिक), रामेश्वरम और भद्राचलम जैसे अन्य लोकप्रिय स्थलों के अलावा जनकपुर (नेपाल में) के धार्मिक गंतव्य को भी कवर करेगी। 

कृष्ण सर्किट के लिए भारत गौरव पर्यटक ट्रेन

पर्यटन मंत्रालय ने रेल मंत्रालय और भारतीय रेलवे खानपान और पर्यटन निगम (IRCTC) के साथ समन्वय में बौद्ध सर्किट, कृष्ण सर्किट और कई अन्य सर्किटों के लिए भारत गौरव पर्यटक ट्रेनों का भी प्रस्ताव रखा है।

भारत गौरव ट्रेनों का महत्व

भारत गौरव ट्रेनें भारत की समृद्ध आध्यात्मिक, सांस्कृतिक और ऐतिहासिक विरासत को अपने लोगों को दिखाने का एक प्रयास है। इस अनोखे विचार की परिकल्पना रेल मंत्रालय ने की थी। यह अवधारणा देश भर में बड़े पैमाने पर पर्यटन को बढ़ावा देने में मदद करेगी। यह लोगों को भारतीय संस्कृति का पता लगाने का अवसर भी प्रदान करेगा।

18 दिन की यात्रा

यह ट्रेन 18 दिन की यात्रा पूरी करने के बाद वापस दिल्ली लौटेगी। यह पूरे रामायण दौरे में करीब 8000 किलोमीटर की दूरी तय करेगी।

Categories:

Tags: , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments