पीएम नरेंद्र मोदी ने भारत-ऑस्ट्रेलिया सर्कुलर इकोनॉमी हैकाथॉन (I-ACE) को संबोधित किया

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 19 फरवरी, 2021 को भारत-ऑस्ट्रेलिया सर्कुलर इकॉनमी हैकथॉन (I-ACE) को संबोधित किया।

मुख्य बिंदु

  • स हैकाथॉन के दौरान, नरेंद्र मोदी ने कहा कि भारत के उपभोग पैटर्न को देखने की जरूरत है।
  • भारत को यह भी देखना होगा कि पारिस्थितिक प्रभाव को कैसे कम किया जाए।
  • प्रधानमंत्री ने आगे कहा कि उपभोग पैटर्न के संबंध में कई चुनौतियों को हल करने के लिए परिपत्र अर्थव्यवस्था एक महत्वपूर्ण कदम हो सकता है।
  • प्रधानमंत्री ने आगे कहा कि रीसाइक्लिंग और पुन: उपयोग पर अधिक फोकस किया जाना चाहिए और कचरे को नष्ट करना तथा संसाधन दक्षता को जीवन शैली का एक हिस्सा बनाना चाहिए।
  • इस हैकाथॉन के दौरान, छात्रों के 72 टीमों और स्टार्ट-अप्स के 200 प्रतिभागियों द्वारा अपशिष्ट न्यूनीकरण समाधान प्रदान किए गए थे।

भारत-ऑस्ट्रेलिया सर्कुलर इकोनॉमी हैकाथॉन (I-ACE)

इंडिया ऑस्ट्रेलिया सर्कुलर इकोनॉमी हैकथॉन को नीति आयोग अटल इनोवेशन मिशन (AIM) द्वारा लॉन्च किया गया था। इस हैकथॉन को ऑस्ट्रेलिया के कॉमनवेल्थ वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान संगठन (CSIRO) के सहयोग से लॉन्च किया गया था। यह दोनों देशों के छात्रों, एमएसएमई और स्टार्ट-अप द्वारा प्रदान की गई नवीन प्रौद्योगिकी समाधानों की पहचान और विकास पर केंद्रित है। यह एक स्थायी परिपत्र अर्थव्यवस्था को प्रोत्साहित करने में मदद करेगा। यह हैकाथॉन दीर्घकालिक स्वास्थ्य और लचीलापन बढ़ाने के उद्देश्य से शुरू किया गया था।

I-ACE के विषय

I-ACE का आयोजन चार प्रमुख विषयों के तहत किया गया था:

  1. कचरे से बचने के लिए खाद्य आपूर्ति श्रृंखलाओं में नवाचार।
  2. पैकेजिंग कचरे को कम करने में पैकेजिंग में नवाचार।
  3. प्लास्टिक कचरे को कम करने के अवसर पैदा करना।
  4. महत्वपूर्ण ऊर्जा धातुओं और ई-कचरे का पुनर्चक्रण।

परिपत्र अर्थव्यवस्था

यह एक आर्थिक प्रणाली है जिसका उद्देश्य कचरे  को कम करना है और पुनःउपयोग को बढ़ावा देना है। यह प्रणाली पुन: उपयोग, मरम्मत, साझाकरण, नवीनीकरण, पुन: निर्माण और पुनर्चक्रण पर फोकस करती है।  यह प्रदूषण, अपशिष्ट और कार्बन उत्सर्जन को भी कम करती है।

Categories:

Tags: , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments