पीएम मोदी उज्बेकिस्तान के राष्ट्रपति मिर्जियोयेव के साथ वर्चुअल शिखर सम्मेलन में भाग लेंगे

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उज्बेकिस्तान के राष्ट्रपति शावकत मिर्ज़ियोएव के बीच 11 दिसम्बर, 2020 को एक वर्चुअल शिखर सम्मेलन आयोजित किया जाएगा। इस शिखर सम्मेलन के दौरान दोनों देशों की सरकारों के बीच कई महत्वपूर्ण समझौते किये जा सकते हैं।

मुख्य बिंदु

यह भारत और उज्बेकिस्तान के बीच पहला द्विपक्षीय ‘वर्चुअल समिट’ होगा। इस दौरान दोनों नेता कोविड-19 के बाद की दुनिया में भारत-उजबेकिस्तान सहयोग को मजबूत करने सहित द्विपक्षीय संबंधों के पूरे स्पेक्ट्रम पर चर्चा करेंगे। वे पारस्परिक हित के क्षेत्रीय और वैश्विक मुद्दों पर भी विचारों का आदान-प्रदान करेंगे।
2015 और 2016 में प्रधानमंत्री मोदी की उज्बेकिस्तान की यात्रा और 2018 और 2019 में राष्ट्रपति मिर्ज़ियोएव की भारत ने रणनीतिक साझेदारी को एक नया गतिशीलता प्रदान की है। पिछले कुछ समय में दोनों देशों के बीच कई उच्चस्तरीय वार्ताएं हुई हैं, जिसके परिणामस्वरूप दोनों देशों के सम्बन्ध प्रगाढ़ हुए हैं।

भारत-उज्बेकिस्तान व्यापार सम्बन्ध

  • भारत उज्बेकिस्तान को फार्मास्यूटिकल उत्पाद, मैकेनिकल उपकरण, वाहन, ऑप्टिकल उपकरण इत्यादि का निर्यात करता है।
  • भारत मध्य एशियाई देशों से फल व सब्जी उत्पाद, उर्वरक, लुब्रिकेंट्स इत्यादि का आयात करता है।
  • उज्बेकिस्तान के अंदिजन क्षेत्र में उज्बेक-भारत मुक्त फार्मास्यूटिकल जोन का निर्माण किया जा रहा है। यह किर्गिजस्तान के साथ लगता है। इसका उद्देश्य फार्मास्यूटिकल क्षेत्र में निवेश को आकर्षित करना है।
  • Categories:

    Tags: , , , , , , , ,

    « »

    Advertisement

    Comments