पीएम मोदी ने ‘टॉयकोनॉमी’ पर फोकस करने का आवाहन किया, जानिए क्या है ‘टॉयकोनॉमी’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए टॉयकाथॉन-2021 (Toycathon-2021) के प्रतिभागियों से बातचीत की।

मुख्य बिंदु

  • इस सम्मेलन में केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल और संजय धोत्रे भी मौजूद थे।
  • प्रतिभागियों ने पीएम मोदी के साथ अपने गेम्स पर भी चर्चा की, जहां, पीएम ने डेवलपर्स को इसे अपने गेम में शामिल करने के लिए और अधिक सुझाव दिए।

टॉयकोनॉमी क्या है? (What is Toyconomy?)

इस बैठक के दौरान, पीएम मोदी ने भारतीय अर्थव्यवस्था में खिलौनों और खेल उद्योग के महत्व पर प्रकाश डाला। उन्होंने खिलौना और खेल उद्योग को ‘टॉयकोनॉमी’ की संज्ञा दी। पीएम मोदी के अनुसार, वैश्विक खिलौना बाजार लगभग 100 बिलियन डॉलर का है, जिसमें से भारत केवल 1.5 बिलियन डॉलर का योगदान देता है। भारत अपने खिलौनों का 80% विदेशों से आयात करता है।

भारत में ऑनलाइन गेमिंग

पीएम मोदी ने भारत में वर्चुअल, डिजिटल और ऑनलाइन गेमिंग की संभावनाओं का पता लगाने पर भी बल दिया क्योंकि सस्ते डेटा और इंटरनेट के विकास ने ग्रामीण कनेक्टिविटी को बढ़ावा दिया है। उन्होंने दुनिया भर में भारतीय खिलौनों को प्रतिस्पर्धी बनाने के लिए नवाचार और वित्तपोषण के नए मॉडल लाने पर बल दिया।

भारत के स्वतंत्रता संग्राम पर गेम्स

भारत की स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगांठ खिलौना उद्योग के नवप्रवर्तकों और रचनाकारों के लिए बहुत बड़ा अवसर लेकर आएगी। कई घटनाओं, हमारे स्वतंत्रता सेनानियों और उनके नेतृत्व की कहानियों का उपयोग गेमिंग कांसेप्ट में किया जा सकता है।

Categories:

Tags: , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments