पीएम मोदी ने नेताजी सुभाष चन्द्र बोस (Netaji Subhas Chandra Bose) की होलोग्राम प्रतिमा का अनावरण किया

आज नेताजी सुभाष चन्द्र बोस के जन्म दिवस के अवसर पर प्रधानमंत्री मोदी ने नई दिल्ली में इंडिया गेट पर नेताजी सुभाष चंद्र बोस की एक होलोग्राम प्रतिमा का अनावरण किया। हालाँकि, इंडिया गेट पर नेताजी सुभाष चन्द्र बोस की ग्रेनाइट प्रतिमा बनाई जाएगी, परन्तु जब तक ग्रेनाइट प्रतिमा बन कर तैयार नहीं हो जाती, तब तक यह होलोग्राम प्रतिमा प्रदर्शित की जाएगी।

मुख्य बिंदु

ग्रेनाइट से बनी यह मूर्ति देश के स्वतंत्रता संग्राम में नेताजी के अपार योगदान के लिए एक उपयुक्त श्रद्धांजलि होगी। इस प्रतिमा का काम पूरा होने तक नेताजी की होलोग्राम प्रतिमा उसी स्थान पर मौजूद रहेगी।

इस होलोग्राम प्रतिमा को 30 हजार लुमेन 4K प्रोजेक्टर द्वारा संचालित किया जाएगा। इस कार्य के लिए एक 90% पारदर्शी होलोग्राफिक स्क्रीन इस तरह से लगाई गई है कि यह लोगों को दिखाई नहीं देगी। होलोग्राम का प्रभाव पैदा करने के लिए उस पर नेताजी की 3D छवि पेश की जाएगी। इस होलोग्राम प्रतिमा का आकार 28 फीट ऊंचा और 6 फीट चौड़ा है।

नेताजी सुभाष चंद्र बोस (Netaji Subhas Chandra Bose)

  • नेताजी एक भारतीय राष्ट्रवादी थे।उनका जन्म कटक में हुआ था। उन्होंने दर्शनशास्त्र में डिग्री हासिल की और बाद में भारतीय सिविल सेवा के लिए चुने गए। उन्होंने इसमें शामिल होने से इनकार कर दिया क्योंकि वह ब्रिटिश सरकार की सेवा नहीं करना चाहते थे।
  • नेताजी 1921 में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में शामिल हुए।
  • नेताजी ने “स्वराज” नाम से एक अखबार शुरू किया था।उन्होंने “द इंडियन स्ट्रगल” नामक एक पुस्तक लिखी थी। इस पुस्तक में 1920 और 1942 के बीच भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन को शामिल किया गया है।
  • “जय हिंद” शब्द नेताजी सुभाष चंद्र बोस द्वारा गढ़ा गया था।

भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में नेताजी

  • नेताजी को 1925 में उनकी राष्ट्रवादी गतिविधियों के लिए जेल में डाल दिया गया था। बाद में 1927 में उन्हें रिहा किया गया। उनकी रिहाई के बाद, वह भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के महासचिव बने।
  • उन्होंने 1939 में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के एक भाग के रूप में ऑल इंडिया फॉरवर्ड ब्लॉक का गठन किया।
  • 1941 में बोस अफगानिस्तान और सोवियत संघ के रास्ते जर्मनी चले गये थे।जर्मनी में, नेताजी जर्मन नेताओं और अन्य भारतीय छात्रों और यूरोपीय राजनीतिक नेताओं से मिले।
  • उन्होंने 4,500 भारतीय सैनिकों के साथ ‘Indian Legion’ की स्थापना की।इन सैनिकों को उत्तरी अफ्रीका से जर्मनों द्वारा कैद किया गया था। 1943 में, उन्होंने जापान के लिए प्रस्थान किया और ‘इंडियन नेशनल आर्मी’ को पुनर्जीवित किया।

 

Categories:

Tags: , , , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments