पीएम मोदी भारत के पहले स्वदेश निर्मित एयरक्राफ्ट कैरियर INS विक्रांत (INS Vikrant) को कमीशन करेंगे

स्वदेशी विमानवाहक पोत ‘विक्रांत’ 2 सितंबर, 2022 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की उपस्थिति में कमीशन किया जाएगा। INS विक्रांत पर विमान लैंडिंग परीक्षण नवंबर में शुरू होगा और 2023 के मध्य तक पूरा हो जाएगा। यह कैरियर  2023 के अंत तक पूरी तरह से चालू हो जाएगा।

INS विक्रांत (INS Vikrant)

  • इसे स्वदेशी विमान वाहक वन (IAC-1) के रूप में भी जाना जाता है। इसका निर्माण भारतीय नौसेना के लिए कोचीन शिपयार्ड, केरल द्वारा किया गया है। इसकी कुल स्वदेशी सामग्री 76% है।
  • यह युद्धपोत 262 मीटर लंबा, 62 मीटर चौड़ा और इसकी ऊंचाई 59 मीटर है। इसका निर्माण 2009 में शुरू हुआ था।
  • INS विक्रांत में 2,200 से अधिक कोच हैं, जिन्हें लगभग 1600 लोगों के दल के लिए डिज़ाइन किया गया है, जिसमें महिला अधिकारियों को समायोजित करने के लिए विशेष केबिन भी शामिल हैं।
  • विक्रांत की 18 समुद्री मील की परिभ्रमण गति, लगभग 28 समुद्री मील की शीर्ष गति है।
  • यह Short Take Off But Arrested Recovery Mechanism (STOBAR) पर काम करता है।आईएनएस विक्रांत 4 जनरल इलेक्ट्रिक गैस टर्बाइन द्वारा संचालित है।
  • आईएनएस विक्रांत का आदर्श वाक्य “जयमा सम युधि स्पर्धाः” (Jayema Sam Yudhi Sprdhah) है। यह ऋग्वेद से लिया गया है। इसका अर्थ है “मैं उनको हराता हूं जो मेरे खिलाफ लड़ते हैं”।
  • आईएनएस विक्रांत की परियोजना लागत 2014 में 3.5 बिलियन अमरीकी डालर तक बढ़ा दी गई थी। 2019 में परियोजना के चरण 3 के लिए अतिरिक्त 420 मिलियन अमरीकी डालर को अधिकृत किया गया था।
  • यह परियोजना भारतीय एकता का प्रतिनिधित्व करती है क्योंकि विमानवाहक पोत का निर्माण 18 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में किया गया है, जिसमें कोलकाता, जालंधर, कोटा, पुणे, दिल्ली, अंबाला, हैदराबाद और इंदौर जैसे स्थान शामिल हैं।

‘विक्रांत’ के निर्माण के साथ, भारत अमेरिका, ब्रिटेन, रूस, चीन और फ्रांस जैसे देशों के चुनिंदा समूह में शामिल हो गया है, जिनके पास स्वदेशी रूप से विमान वाहक डिजाइन और निर्माण करने की अद्वितीय क्षमता है।

Categories:

Tags: , , , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments