पुलिस थानों की वार्षिक रैंकिंग जारी की गयी

गृह मंत्रालय ने हाल ही में भारत में पुलिस स्टेशनों की वार्षिक रैंकिंग जारी की है। यह वार्षिक रैंकिंग 2015 से की जा रही है।

रैंकिंग के मुख्य बिंदु

  • मणिपुर के थौबल जिले में नोंगपोक सीकमाई पुलिस स्टेशन को देश में सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वाले पुलिस स्टेशन के रूप में रैंक किया गया है।
  • तमिलनाडु के सलेम शहर के सुरमंगलम के ऑल वीमेन पुलिस स्टेशन ने इस सूची में दूसरा स्थान हासिल किया है।
  • अरुणाचल प्रदेश के चांगलांग जिले के खरसांग थाने को तीसरा स्थान मिला है।

रैंकिंग में शीर्ष 10 पुलिस स्टेशन कौन से हैं?

इस सूची में शामिल अन्य सात शीर्ष पुलिस स्टेशन हैं : छत्तीसगढ़ का झिलिमिली, गोवा का सुंगेम, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह का कालीघाट, सिक्किम का पाक्योंग, उत्तर प्रदेश का कांठ, दादरा व नगर हवेली का खानवेल और तेलंगाना का जम्मीकुतना टाउन पुलिस स्टेशन।

रैंकिंग के बारे में

वर्तमान में भारत में 16,671 से अधिक पुलिस स्टेशन हैं। शीर्ष 10 पुलिस स्टेशनों को विभिन्न प्रदर्शन मापदंडों जैसे महिलाओं के खिलाफ अपराध, कमजोर वर्ग, संपत्ति अपराधों के आधार पर शॉर्टलिस्ट किया जाता है। 2020 में, भारत सरकार ने अज्ञात व्यक्ति, लापता व्यक्तियों और अज्ञात शवों के 3 नए पैरामीटर पेश किए थे।

पुलिस की कार्यप्रणाली से जुड़ी हुई समस्याएं

देश स्वीकृत पुलिस बल संख्या प्रति लाख व्यक्तियों पर 181 पुलिसकर्मी है। हालांकि, 2016 में यह आंकड़ा 137 था। इसके कारण पुलिस बल पर अधिक भार है। वर्तमान में भारत में 5.5 लाख पुलिस कर्मियों की आवश्यकता है। इसका मतलब है कि स्वीकृत पुलिस बल की संख्या का लगभग 24% हिस्सा खाली है।

दूसरी ओर, संयुक्त राष्ट्र ने सिफारिश की है कि प्रति एक लाख व्यक्तियों पर 222 पुलिसकर्मी होने चाहिए।

नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक की रिपोर्ट के अनुसार, राज्य पुलिस बलों के पास हथियारों की कमी है। उदाहरण के लिए, यह रिपोर्ट कहती है कि पश्चिम बंगाल और राजस्थान में क्रमशः 71% और 75% हथियारों की कमी थी। इसके अलावा, पुलिस थानों में बुनियादी ढांचे के आधुनिकीकरण के लिए आवंटित धन का उपयोग पूरी तरह से नहीं किया जाता है।

Categories:

Tags: , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments