पूंजीगत व्यय के लिए राज्यों को वित्तीय सहायता की योजना : मुख्य बिंदु

वित्त मंत्रालय ने हाल ही में घोषणा की कि वह राज्यों को पूंजीगत व्यय के लिए वर्ष 2021-22 के लिए 15,000 करोड़ रुपये प्रदान करेगा। यह पूंजी परियोजनाओं पर खर्च करने के लिए ब्याज मुक्त 50 वर्षीय ऋण के रूप में प्रदान किया जा रहा है। इस संबंध में नए दिशानिर्देशों की घोषणा की गई है, जिसे “पूंजीगत व्यय के लिए राज्यों को वित्तीय सहायता की योजना” (Scheme of Financial Assistance to States for Capital Expenditure) कहा जाता है।

योजना के बारे में

2020-21 में, इस योजना के लिए 12,000 करोड़ रुपये आवंटित किए गए और राज्यों को 11,830.29 करोड़ रुपये जारी किए गए।

योजना का भाग I

इस योजना का भाग I उत्तर पूर्वी राज्यों और भारत के पहाड़ी राज्यों में लागू किया जायेगा। योजना के इस भाग के लिए लगभग 2,600 करोड़ रुपये आवंटित किए गए हैं। इसमें से हिमाचल प्रदेश, असम और उत्तराखंड को 400 करोड़ रुपये दिए जायेंगे।

योजना का भाग II

अन्य राज्यों को इस योजना के तहत शामिल किया गया है। इन राज्यों को 7,400 करोड़ रुपये आवंटित किए गए हैं। यह फण्ड केंद्रीय करों में उनके हिस्से के अनुपात में आवंटित किया जायेगा जैसा कि 2021-22 के 15वें आयोग द्वारा निर्धारित किया गया है।

योजना का भाग III

इस योजना के हिस्से के तहत, राज्यों को सार्वजनिक क्षेत्र के उद्यमों के विनिवेश के लिए और बुनियादी ढांचे की संपत्तियों के पुनर्चक्रण या मुद्रीकरण के लिए प्रोत्साहन प्रदान किया जायेगा। इसे हासिल करने के लिए 5,000 करोड़ रुपये आवंटित किए गए हैं।

लाभ

यह योजना राष्ट्रीय अवसंरचना पाइपलाइन (National Infrastructure Pipeline) परियोजनाओं को गति देने में मदद करेगी। यह राज्यों को चल रही पूंजी परियोजनाओं में लंबित बिल का भुगतान करने में मदद करेगा। साथ ही, इस योजना के तहत प्रदान की जाने वाली धनराशि का उपयोग नई पूंजी परियोजनाओं के लिए किया जाएगा।

Categories:

Tags: , , ,

« »

Advertisement

Comments