पृथ्वी की छिपी हुई परत – मुख्य तथ्य

वैज्ञानिकों ने हाल ही में पृथ्वी के कोर के अंदर एक छिपी हुई संरचना के संकेतों का पता लगाया है। इस संकेत में पृथ्वी के केंद्र के बारे में मौजूद लंबे समय से चली आ रही मान्यता को बदलने की क्षमता है। इस परत को ‘पांचवीं परत’ कहा जा रहा है।

मुख्य बिंदु

लंबे समय से चली आ रही मान्यता के अनुसार, पृथ्वी की चार परतें मौजूद हैं; भूपर्पटी, मेंटल, बाहरी कोर और आंतरिक कोर। वैज्ञानिकों ने आंतरिक कोर के भीतर लोहे की संरचना में कथित तौर पर कुछ बदलाव दर्ज किए हैं। इन परिवर्तनों से पता चलता है कि एक नई ‘सीमा रेखा’ पृथ्वी के केंद्र से लगभग 650 किलोमीटर तक फैल रही है।

पाँचवीं परत

डेली मेल की रिपोर्ट के अनुसार शोधकर्ताओं को एक दशक से अधिक समय के लिए पांचवीं परत का संकेत मिल रहा है। हालांकि, इसका पता लगाना काफी मुश्किल है। पृथ्वी के भीतर यात्रा कर रही भूकंपीय तरंगों के यात्रा समय के आंकड़ों का अध्ययन करने के बाद शोधकर्ता पांचवी परत के बारे में संदेह कर रहे हैं। इस डेटा को इंटरनेशनल सीस्मोलॉजिकल सेंटर द्वारा कैप्चर किया गया था। इस डेटा के बाद, वैज्ञानिकों और शोधकर्ताओं ने पृथ्वी के आंतरिक कोर की संरचना में बदलाव के सबूतों को खोजने के लिए अपने नए एल्गोरिदम का उपयोग किया।

अध्ययन का महत्व

इस शोध अध्ययन का तात्पर्य यह भी है कि पृथ्वी के विकास के शुरुआती चरण में, जो लगभग 4.56 बिलियन साल पहले था, पृथ्वी कई अज्ञात घटनाओं गुजरी होगी।  भूवैज्ञानिकों ने निर्धारित किया कि पृथ्वी का आंतरिक कोर 5,000 डिग्री सेल्सियस से अधिक तापमान तक पहुंचता है।

 

Categories:

Tags: , , ,

« »

Advertisement

Comments