पेमेंट सिस्टम टच पॉइंट्स की जियो-टैगिंग के लिए फ्रेमवर्क जारी किया गया

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) द्वारा पेमेंट सिस्टम टच पॉइंट्स की जियो-टैगिंग से संबंधित फ्रेमवर्क जारी किया गया है।

मुख्य बिंदु 

यह फ्रेमवर्क भारत के सभी नागरिकों को ऐसी सेवाओं तक पहुंच प्रदान करने के साथ-साथ डिजिटल भुगतान को गहरा करने के RBI के उद्देश्य के एक हिस्से के रूप में बनाया गया है।

इस प्रणाली का उद्देश्य

यह प्रणाली विभिन्न भुगतान स्वीकृति बुनियादी ढांचे की उपलब्धता की निगरानी में मदद करेगी जैसे कि QR कोड, Points of Sale (PoS) टर्मिनल आदि। ऐसा करने से निगरानी की अनुमति मिलेगी जो भुगतान बुनियादी ढांचे के वितरण को अनुकूलित करने में मदद करने के लिए विभिन्न नीतिगत हस्तक्षेपों का समर्थन करेगी। उपरोक्त उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए, देश भर में एक मजबूत भुगतान स्वीकृति अवसंरचना उपलब्ध होना अत्यंत महत्वपूर्ण है।

जियो-टैगिंग के लाभ

जियो-टैगिंग से भुगतान स्पर्श बिंदुओं को भौगोलिक निर्देशांक (geographical coordinates) प्राप्त करने में मदद मिलेगी। जियो-टैगिंग का प्रमुख लाभ यह है कि यह डिजिटल सिस्टम की क्षेत्रीय पैठ के बारे में जानकारी प्रदान करेगा। यह कई स्थानों पर बुनियादी ढांचे के घनत्व की निगरानी में भी मदद करेगा। इसके साथ ही, जियो-टैगिंग अतिरिक्त भुगतान स्पर्श बिंदुओं की तैनाती के लिए उपलब्ध दायरे की पहचान करने में मदद करेगी। यह देश भर में डिजिटल साक्षरता कार्यक्रमों को बेहतर बनाने में भी मदद करेगा।

इस नए घोषित ढांचे के तहत, बैंक, साथ ही गैर-बैंक भुगतान प्रणाली ऑपरेटर (PSO), सभी भुगतान स्पर्श बिंदुओं के भौगोलिक निर्देशांक को कैप्चर करेंगे। इसके साथ ही पेपर बेस्ड, सॉफ्ट QR कोड और PoS टर्मिनल की जियो-टैगिंग RBI को देनी होगी।

Categories:

Tags: , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments