प्रगति मैदान एकीकृत ट्रांजिट कॉरिडोर परियोजना का उद्घाटन किया गया

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 19 जून, 2022 को प्रगति मैदान इंटीग्रेटेड ट्रांजिट कॉरिडोर परियोजना के एक हिस्से के रूप में बहुप्रतीक्षित सुरंग और छह अंडरपास का उद्घाटन किया।

प्रगति मैदान इंटीग्रेटेड ट्रांजिट कॉरिडोर (Pragati Maidan Integrated Transit Corridor)

  • इस ट्रांजिट कॉरिडोर से 1 लाख यात्रियों के लिए यातायात आसान होने की संभावना है।
  • यह कॉरिडोर 920 करोड़ रुपये की लागत से बनाया गया है।
  • यह पूरी तरह से केंद्र सरकार द्वारा वित्त पोषित है।
  • यह कॉरिडोर प्रगति मैदान में विकसित किए जा रहे नए विश्व स्तरीय प्रदर्शनी और सम्मेलन केंद्र के लिए परेशानी मुक्त और सुगम पहुंच प्रदान करेगा।
  • यह प्रगति मैदान में आयोजित होने वाले कार्यक्रमों के लिए प्रदर्शकों और आगंतुकों की आसान भागीदारी की सुविधा प्रदान करेगा।

गलियारे की विशेषताएं

  • प्रगति मैदान इंटीग्रेटेड ट्रांजिट कॉरिडोर 1.36 किलोमीटर लंबी सुरंग है।
  • इसमें छह लेन हैं, दोनों तरफ तीन लेन का कैरिजवे है।
  • यह पुराना किला रोड और प्रगति मैदान के माध्यम से रिंग रोड को इंडिया गेट से जोड़ता है।
  • यह प्रगति मैदान की बेसमेंट पार्किंग को सीधी कनेक्टिविटी प्रदान करेगा।
  • यह कॉरिडोर पूर्व, दक्षिणपूर्व और मध्य दिल्ली के बीच यात्रा करने वाले लोगों के लिए परेशानी मुक्त आवागमन प्रदान करेगा।

सुरंग का नियंत्रण कक्ष

इस सुरंग में सीसीटीवी के माध्यम से यातायात की निगरानी के लिए प्रवेश और निकास पर दो नियंत्रण कक्ष होंगे। पांच मीटर चौड़ी और 80 मीटर लंबी आपातकालीन लेन का निर्माण भी भूमिगत मार्ग पर किया गया है।

छह अंडरपास

इस कॉरिडोर में छह अंडरपास हैं। इनमें से पांच मथुरा रोड पर हैं। छठा अंडरपास रिंग रोड पर है जो रेलवे लाइन के नीचे जाएगा और भैरों मार्ग से जुड़ जाएगा।

पृष्ठभूमि

सुरंग और अंडरपास पर काम 2017 में शुरू किया गया था। इसके 2019 तक पूरा होने का अनुमान था, लेकिन प्रदूषण, दिल्ली में कोविड -19 महामारी और निर्माण गतिविधियों पर प्रतिबंध के कारण इसमें देरी हुई।

Categories:

Tags: , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments