प्रधानमंत्री मोदी ने वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम के दावोस एजेंडा में विशेष संबोधन दिया

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 17 जनवरी, 2022 को वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम (WEF) के दावोस एजेंडा में अपना ‘स्टेट ऑफ द वर्ल्ड’ विशेष संबोधन दिया।

संबोधन की खास बातें

  • अपने संबोधन में, प्रधानमंत्री मोदी ने कोविड -19 के नेतृत्व वाले संकट से निपटने और टीकाकरण अभियान के प्रबंधन में भारत द्वारा निभाई गई भूमिका को रेखांकित किया।
  • उन्होंने संयुक्त राष्ट्र जैसे अंतर्राष्ट्रीय संगठनों के पुनर्गठन की आवश्यकता पर प्रकाश डाला।
  • कोविड-19 महामारी पर डेटा, आंकड़े और तथ्यों के साथ, उन्होंने भारत को एक भविष्य की तकनीक के साथ-साथ दुनिया की एक आर्थिक शक्ति के रूप में प्रस्तुत किया।
  • उन्होंने भारत को विश्व समुदाय के एक अनिवार्य सदस्य के रूप में भी प्रदर्शित किया।

कोविड -19 टीकाकरण पर भारत का रिकॉर्ड

प्रधानमंत्री के अनुसार, भारत ने 1.6 बिलियन कोविड वैक्सीन लगाने का रिकॉर्ड बनाया है। भारत अन्य देशों के साथ भी खड़ा हुआ है जिन्हें महामारी के बीच जरूरत थी। भारत ‘एक पृथ्वी, एक स्वास्थ्य’ के दृष्टिकोण का अनुसरण करता है। इसने लगभग 150 देशों को कोविड के टीके और जीवन रक्षक दवाओं की आपूर्ति की है।

भविष्य की तकनीक और आर्थिक महाशक्ति

प्रधानमंत्री मोदी ने भारत को भविष्य की तकनीकी और आर्थिक महाशक्ति के रूप में पेश किया। उन्होंने भारत में हो रहे आर्थिक और तकनीकी सुधारों के बारे में बताया।

जलवायु परिवर्तन से निपटने का तरीका

प्रधानमंत्री ने दुनिया को जलवायु परिवर्तन जैसी चुनौतियों से निपटने का सुझाव दिया। उन्होंने दुनिया को जीवन-शैली के बारे में सोचना शुरू करने की आवश्यकता को रेखांकित किया, जो हमारे पर्यावरण को नुकसान पहुंचा रही है। उनके अनुसार, भारतीय संस्कृति अभी भी पर्यावरण के संरक्षण की अपनी सदियों पुरानी परंपराओं पर टिकी हुई है।

Categories:

Tags: , , , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments