प्रसिद्ध न्यूरोलॉजिस्ट डॉ. अशोक पनगढ़िया (Dr. Ashok Panagariya) का निधन

हाल ही में सुप्रसिद्ध न्यूरोलॉजिस्ट और पद्म श्री पुरस्कार से सम्मानित डॉ. अशोक पनगढ़िया (Dr. Ashok Panagariya) का कोविड-19 जटिलताओं के कारण निधन हो गया। डॉ. पनगढ़िया 71 वर्ष के थे।

मुख्य बिंदु

डॉ. अशोक पनगढ़िया  पिछले कुछ समय से अस्वस्थ चल रहे थे, वे पिछले कई दिनों से एक निजी अस्पताल में वेंटिलेटर सपोर्ट पर थे। पिछले दो दिनों में उनकी हालत बिगड़ी और आज उनका निधन हो गया। उनके निधन पर राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने शोक व्यक्त किया है।

डॉ. अशोक पनगढ़िया ने जयपुर की Rajasthan University of Health Sciences के कुलपति और राजस्थान सरकार के योजना बोर्ड के सदस्य सहित कई शीर्ष पदों पर कार्य किया।

डॉ. अशोक पनगढ़िया (Dr. Ashok Panagariya)

डॉ. अशोक पनगढ़िया भारत के एक प्रसिद्ध न्यूरोलॉजिस्ट, मेडिकल शोधकर्ता और शिक्षाविद थे। उनका जन्म वर्ष 1950 में जयपुर, राजस्थान में हुआ था। उन्होंने वर्ष 1972 में MBBS के पढ़ाई पूरी की। उसके बाद उन्होंने न्यूरोलॉजी विषय में भी अध्ययन किया। वे सवाई मानसिंह मेडिकल कॉलेज में न्यूरोलॉजी विभाग के प्रमुख रहे, बाद में वे इस संस्थान के प्रिंसिपल भी रहे।

डॉ. अशोक पनगढ़िया भारतीय रक्षा बलों के मानद न्यूरोलॉजिस्ट थे। वे ‘दिशा’ नामक NGO के चेयरमैन भी थे।

वह चिकित्सा श्रेणी में भारत के सर्वोच्च पुरस्कार डॉ. बी.सी. रॉय पुरस्कार (Dr. B C Roy Award) के प्राप्तकर्ता थे। डॉ. अशोक पनगढ़िया को 2014 में भारत सरकार द्वारा चौथे सर्वोच्च भारतीय नागरिक पुरस्कार पद्म श्री से सम्मानित किया गया था। राजस्थान सरकार ने 1992 में उन्हें मेरिट पुरस्कार से सम्मानित किया था। इसके अलावा मेडिकल क्षेत्र में योगदान के लिए उन्हें यूनेस्को अवार्ड से भी सम्मानित किया गया था। जबकि टाइम्स ऑफ़ इंडिया ने उन्हें लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड से सम्मानित किया था।

Categories:

Tags: , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments