प्रोजेक्ट लून क्या है?

गूगल की सहायक कंपनी प्रोजेक्ट लून ने हाल ही में घोषणा की कि उसके गुब्बारे लगभग एक साल तक समताप मंडल में  हैं। यह गुब्बारे हीलियम से भरे हुए हैं और 2.1 लाख किलो मीटर की दूरी तय कर चुके हैं। प्रोजेक्ट लून का लक्ष्य दुनिया के दूरदराज के हिस्सों में इंटरनेट कनेक्टिविटी प्रदान करना है। हाल ही में, लून ने 312 दिनों के लिए हवा में रहकर सबसे लंबी स्ट्रैटोस्फेरिक उड़ान के लिए एक नया रिकॉर्ड बनाया है।

प्रोजेक्ट लून

प्रोजेक्ट लून का उद्देश्य दुनिया के दूरदराज के हिस्सों में इंटरनेट कनेक्टिविटी प्रदान करना है। इस परियोजना में हीलियम से भरे गुब्बारे शामिल हैं जो समताप मंडल में रहते हैं और वे हवाई वायरलेस नेटवर्क बनाते हैं। इस परियोजना ने इंटरनेट कनेक्टिविटी प्रदान करने के लिए कई देशों और उनके प्रौद्योगिकी भागीदारों के साथ सहयोग किया है।

हीलियम गुब्बारे

यह गुब्बारे 15 मीटर चौड़े और 12 मीटर लंबे हैं। उन्हें पृथ्वी से 20 किमी की ऊंचाई पर लॉन्च किया गया है। ये गुब्बारे सिग्नल प्राप्त करने और संचारित करने वाले सेल टॉवर के रूप में कार्य करते हैं। यह गुब्बारे सौर पैनलों द्वारा संचालित होते हैं।

गुब्बारों का मार्ग इसकी ऊँचाई को बदलकर नियंत्रित किया जाता है। वे ऊपर या नीचे जाने के लिए हवा की गति और दिशा का उपयोग करते हैं।

यूजर्स को गुब्बारे से संकेतों को प्राप्त करने और प्रसारित करने के लिए विशेष एंटीना की आवश्यकता होती है।। गुब्बारे में पैनल सूर्य के संपर्क में आने पर 100 वाट बिजली पैदा करते हैं।

Categories:

Tags: , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments